जीवन में सफलता के 10 मूलमंत्र | Jeevan Mantra In Hindi : यहाँ पर यह सब जानकारी आपको मिल जाएँगी जैसे की सफलता के टिप्स, समय की सफलता का मंत्र, जीवन का मूल मंत्र, सफलता के सूत्र, सफलता के मूल मंत्र pdf, सफलता का राज, सफलता का रहस्य, सक्सेस मंत्र फॉर स्टूडेंट्स etc, की hindi में.

दुनिया की इस भीड़ में कुछ लोग सफता की ऊंचाई छू रहे हैं, तो कुछ लोग असफल हैं। सफलता पाने के दो ही मंत्र है कड़ी मेहनत और किस्मत। किस्मत हमारे बस में नहीं हैं। लेकिन मेहनत हमारी गुलाम है।

“करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान,

रसरी आवत जात ते सिल पर परत निसान”

इसका अर्थ है लगातार अभ्यास और मेहनत से मूर्ख से मूर्ख व्यक्ति भी बुद्धिमान हो जाता है। जैसे कुएं की मुंडेर पर रस्सी के बार बार घिसने से पत्थर पर भी निशान पड़ जाते हैं, वैसे ही अगर मनुष्य हिम्मत बिना हारे लगातार किसी काम सिखने की कोशिश करता रहे, तो एक दिन वह अवश्य सफल होगा।

जीवन में सफलता के 10 मूलमंत्र | Jeevan Mantra In Hindiजीवन में सफलता के 20 मूलमंत्र | Jeevan Mantra In Hindi

Contents

सही कार्य क्षेत्र का चयन और काम की छोटे रूप में शुरूआत

सबसे पहले तो अगर आप अपने जीवन में कुछ  “आप अपनी छोटी सोच से बड़ी सफलता पा सकतें हैं, इसलिए अपनी सोच बड़ी रखिए और बड़े सपने देखिए” एक सही मार्ग का चयन करें और उस पर पूरी सरह से फोकस करें। आपने सुना ही होगा की चार नाव पर पैर रखकर चलने से किनारा नहीं मिलता और डूबने का डर भी रहता है।

इसलिए एक छोटे बिंदू अर्थात एक छोटा टार्गेट बना कर काम करें। ताकि आप असफल भी हों तो आपके पास उठने की हिम्मत हो। छोटे रूप से काम करने पर आपको ये भी पता चलता है कि आपके लिए क्या बेहतर है।  तो ये तो बात थी अपने खुद के बिज़नेस को लेकर लेकिन अगर आप स्टूडेंट हैं.

तो भी आप काफी सोच समझकर फैसला लें। आपका जिस क्षेत्र में मन है उसी क्षेत्र को अपनी कार्यशैली बनाए। अपने आपको और अपने काम थोड़ा समय दें ताकि आपको पता चल सकें की वो फिल्ड आपके लिए सही है या नहीं।

हर काम में सफलता पाने का मंत्र

परिणाम के ध्यान में रख कर काम करें

किसी भी काम को करने से पहले उलके परिणाम को सोच लें उसके बाद ही काम करें। यह सही है कि कर्म करें और फल की चिंता न करें लेकिन यह हर तरह से लागू नहीं होता। आगर आप बिना परिणाम के जाने काम करेंगेतो आपकी दिशा भटक सकती है। फल की चिंता करें लेकिन परिणाम के टारगेट को कम रखें।

प्लानिंग करें

 

प्लानिंगकरना बहुत जरूरी है। सबसे पहले टाइम टेबल बनाए। कब कितना समय आप देंगें और कब कौनसा काम आप करेंगे। अससे आपके काम एक दूसरे के आड़े नहीं आएंगे। और आप सभी चीजों के साथ न्याय कर पाएंगे। साथ ही अपने टारगेट को भी असमें अंकित करें और उसी के हिसाब से प्लानिंग करें। अगर टीम में काम कर रहें हैं तो सभी के समय, टारगेट और काम पहले से तय करें।

गिरने से ना डरें, गिरकर उठना सिखें सफलता पाने का मंत्र

अगर कोई काम करनें निकले यह ध्यान में ज़रूर रखें असके फायदे और नुकसान दोनों हो सकतें हैं। किसी भी काम को शुरू करने से पहले उसके फायदे और नुकसान का पता होना चाहिए। इसलिए गलती करने और नुकसान भुगतने को हमेशा तैयार रहें। गिरकर संङलना ही ऊंचाई चढ़ने के काम आता है।

डायरी लिखने की आदत डालें।  

अपनी दिनचर्या को लिखने की आदत डालें। अपने द्वारा किए गए कामों का लेखा जोखा तैयार करें। शुरूआत में ये काम आपको टाइम वेस्ट और बोरिंग लगेगा। लेकिन ये आपके के लिए सही होगा। अपनी गलतियों को भी अपने नोट्स में शामिल करें।

और उसे लाल पैन से चिन्हित करें ताकि गलतियाँ दुबारा न हो पाए। नोट्स के कारण आपको अपनी गलतियाँ समझ आएगी और साथ ही आप आसानी से खुद को एग्जामिन कर सकतें हैं। आपको किस काम को करने से बेहतर रिज़ल्ट मिले रहा है, वह भी आपको समझ आएगा।

साथ ही कब क्या किया वो आपको याद नहीं रखना पड़ता। भविष्य में अगर आप अपना काम किसी को हैंडओवर करना चाहे तो उसे सिखाने में आसानी होगी। इसलिए पहले दिन से ही सभी कामों की लिस्ट बनाएं।

गलतियों को स्वीकार करें और उससे सीखें सफलता।

अगर आपसे कोई गलती होती है तो असको मानें दूसरों पर ना डालें गलती को स्वीकार करने से ही आप उसमें सुधार कर पाएंगे और उसे भविष्य में धोहराने की नौबत नहीं आएगी। इंसान अपनी गलतियों  से ही सीखता है।

मुश्किल में संयम रखें

अगर किसी कारण वश आपको असफलता का सामना करना पड़े तो हिम्मत रखें। असफलता ही सफलता की निशानी है। अपनी असफलता से सीखें और असका अवलोकन करें। असफलता का कारण ढूंढे और उसे साइड में रखकर आगे बढ़े।

सीखने की ललक हमेशा रखें

जिस व्यक्ति में सीखने की चाह होती सफलता उसके कदम चूमती है। सीखने का चाह ही कुछ करने में सहायक होती है। सीखने की कोई समय सीमा नहीं होती। हमसे छोटे लोग भी हमें बहुत कुछ सिखा देते हैं।

जल्दबाजी न करें सफलता तभी मिलेगी

काम में कोई मुसीबत या खुशखबरी हो तो उत्साहित यौ हतोत्साहित होकर जल्दबाजी में कोई निर्णय कभी न लें। जल्दबाजी में लिए गए निर्णय कभी कारगर साबित नहीं होते।

सफल व्यक्ति को आदर्श मानें

आप जिस से भी प्रेरित हैं उनको अपने जीवन में फॉलो करें। इससे आपको सङी दिश मिलेगी। साथ ही उनके अनुभव से आपके आपके काम में सफलता मिलेगी। ज़रूरी नहीं आदर्श कोई बाहर का ही कभी- कभी हमारे दोस्त, रिश्तेदार या फिर हमारे पड़ोसी भी कुछ ऐसा काम कर जाते हैं कि हमारा दिल उन्हें आदर्श मानने लगता है।

सफलता के क्षणों को सेलिब्रेट करें

अपनी छोटी- छोटी सफलताओं को सेलिब्रेट करें और उसका क्रेडिट देने की भी आदत डालें। इससे आपका काम करने का जस्बा बढ़ता है। सफलताओं का सेलिब्रेशन करने से आपमें कॉन्फिडेंट बढ़ता है। इस  सेलिब्रेशन को अपने अगले स्टेप की पहली सीडी ही माने और फिर जोश से काम में लग जाए।

सफलता पाने के लिए जमीनी हकीकत याद रखें 

सफलता मिलते ही अहंकार को अपने ऊपर हावी न होने दें। अगर अहंकार को आपने अपने ऊपर हावी होने दिया तो सफलता बस क्षण भर के लिए ही रह जाएगी।

Read More:- हताशा दूर करने के लिए अपना सकते हैं ये 20 तरीके

सफलता एक दिन में नहीं मिलती कई बार कर्म करके गिर कर उठना पड़ता है। सफलता के रास्ते में कई रूकावटें आएगी और आपका इम्तिहान लेगी। कभी भी हार न मानें और संयम से काम करें। आपने सुना ही होगा कुछ पाने के लिए कुछ पाने के लिए खोना पड़ता है। तो खुद पर भरोसा रखें और अपने काम के प्रति वफादार रहें। जिससे सफलता आपके कदम चुमेगी।

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here