आप सभी का स्वागत है हमारे आज के इस ब्लॉग मे और  आज हम जानेंगे दुनिया के 5 सबसे ज्यादा खतरनाक तानाशाहों (Dictators) को या  यह कहे दुनिया के 5 सबसे ज्यादा खतरनाक नेताओं (Dangerous Leaders) के बारे में दोस्तों आज की इस ब्लॉग को शुरू करते हैं

पोल पॉट। Some Cruel Dictators

पोल पॉट ने 18 साल तक 1963 से लेकर 1981 तक कंबोडिया (Cambodia) पर राज किया। जिसमें सबसे पूरे साल थे 1975 से लेकर 1989 तक। इन 4 सालों में कंबोडिया की पूरी जनसंख्या (Population) जो कि 70 से 80 लाख थी उसमें से 1500000 लोग बीमारियों के कारण और बाकियों को पोल पॉट द्वारा मरवा दिया गया।सत्ता में आते ही जितने भी कंबोडिया में बड़े-बड़े सिविल अधिकारी,डॉक्टर,अध्यापक और लगभग सभी ऊंचे तबके  के लोगों को उनकी नौकरी से निकलवा दिया गया और उनको खेतों में काम करवाया  गया।दुनिया के सबसे क्रूर तानाशाह The most cruel dictators of history

जिन्होंने इस चीज का विरोध किया उन्हें भूखा रखा जाता था और उन्हे जान से मार दिया जाता था ।किसी भी इंसान की प्राइवेसी (Privacy) नहीं रही थी उनके पैसे,जायजाद (property) को पोल पॉट ने अपने अधिकार में कर  लिया । पहले ये सब पीछे से कराया जा रहा था । उसका चेहरा सामने नहीं आया था 1976 में प्रधानमंत्री बनने के बाद वह सब खुलेआम करने लगा। पोल पॉट  को लगभग 2000000 लोगों की हत्या का गुनहगार  माना जाता है और यह एक ऐसा नेता है अपने देश को आगे बढ़ाने की बजाय पीछे धकेल रहा था।

लियोपोल्ड 2

किंग लेओपोल्ड 2 (King Leopold 2) को काफी जानकार मानते हैं कि उन्हें हिटलर (Hitler) और  स्टालिन (Stalin) की श्रेणी में रखा जाना चाहिए बल्कि इसके विपरीत लोगों को इनकी अच्छी छवि बना कर दिखाई जाती है। वो बेल्जियम के राजा थे जोकि उपनिवेशवाद में विश्वास किया करते थे। हमेशा अपने आसपास के देशों को अपने अधीन रखकर चलाना चाहते थे और इसका असर देखने को मिला। उन्हें एक देश को कोंगोफरी स्टेट के खोजकर्ता के रूप में माना जाता है ।जिसे आज डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो (Democratic Republic of Kongo) के नाम से भी जाना जाता है।

दुनिया के 10 सबसे क्रूर तानाशाह

सच यह नहीं था की उन्होने  इस देश की खोज की बल्कि देश को क्षतिग्रस्त किया। उन्होंने इस देश के संसाधनों का शोषण किया और उनके अनुसार बेल्जियम को अग्रसर होना था तो उसे उपनिवेशवाद अपनाना चाहिए और जिसके लिए 1876 में उपनिवेशवाद शुरू किया और वहां पर एक सीक्रेट असोशिएशन खोली। इसका नाम रखा गया international african association।

वहां के लोगों को धीरे धीरे गुलाम बना कर  खदानों मे  काम करवाया गया और वहां के लोगों को ज्यादा टैक्स देने पर मजबूर किया गया और लोगों को मारने के लिए पुलिस जिसका नाम force public रखा  गया। उसका चयन किया गया और इस पूरे कार्य करते हुए वहां पर लगभग 1 लोगों को जान से मार डालोगी हम को फायदा हुआ था चीन के इतिहास में तानसह के तौर पर नहीं दिखाया गया।

एडोल्फ हिटलर (Adolf hitler)

हिटलर  के बारे में तो आप सब लोग जानते हैं यह नाजी पार्टी (Nazi Party) का लीडर और  लगभग डेढ़ करोड़ लोगों की मौत के जिम्मेदार है।माना जाता है कि जिस में 7 लाख केवल यहूदी थे। हिटलर का सपना था कि केवल उनका देश सबसे आगे हो और वह पूरी दुनिया पर राज कर सके इसके लिए उन्होंने जर्मनी (Germany) के लोगों को एक होने के लिए कहा और वह अपना शत्रु एक बना लें जो कि यहूदी और बाकी जर्मनी में रह रहे अल्प संख्या लोग हैं।

उनका मानना था कि यहूदियों की वजह से जर्मनी पहला विश्व युद्ध हारा और इसके कारण यहूदियों के खिलाफ नफरत बढ़ गई। औरतो और यहूदियों पर बहुत अत्याचार (Torture) किए गए और उन्हें जान से मार दिया गया अपने राज  में हिटलर ने लगभग 90 लाख मे से करीब 3000000 यहूदियो  को मार दिया था जो कि पोलैंड के आसपास और पोलैंड में थे। अपने दम पर लगभग पूरे यूरोप को अपने अधीन कर लिया था और इस लिस्ट में एक ऐसा इंसान है जिसे बुरा  तानाशाह तो  कहा जा सकता है पर  बुरा नेता नहीं कहा जा सकता क्योंकि किसी भी इंसान के लिए अपने पूरे देश को अपनी बात मनवाना इतना आसान नहीं होता ।

जोसफ स्टालिन (Joseph Stalin)

जोसफ स्टालिन (Joseph Stalin) को इतिहास का सबसे निर्दई और नीतिहीन नेता माना जाता है।उसने 1922 से लेकर सोवियत यूनियन पर राज किया और लोगों पर और मानवीय जुर्म ढाए। स्टालिन के मन में किसी के लिए भी कभी कोई दया भाव नहीं रहा। इसका पता इस बात से भी चलता है जब स्टालिन के सबसे बड़े बेटे याकोफ  को जर्मनी की सेना ने पकड़कर बंदी बना लिया जो कि रशिया की तरफ से लड़ रहा था|

तो याकूफ के बदले उन्होंने साल से जर्मन फील्ड  मार्शल फ़ैदरिक को छोड़ने के लिए कहा जर्मन ने  सोचा कि अपने बेटे को पकड़ा देख वह उनकी मांग जरुर पूरी करेंगे।स्टालिन  ने यह कहते हुए मना किया कि वह एक सैनिक के बदले एक फील्ड माशेल को एक्स्चेंज नहीं करेंगे और दुर्भाग्यपूर्ण कंसंट्रेशन कैंप में याकोफ  को मार दिया गया। यही नहीं बल्कि इनको अपने खुद के देशवासियों पर अत्याचार करने के लिए भी जाना जाता है|

दुनिया के 10 सबसे क्रूर तानाशाह The most cruel dictators of history

हालांकि रसिया पर 30 साल शासन के दौरान सब लोग उनकी बातों को मानते जरूर थे ।पर स्टालिन ने लगभग करोड़ों लोगों को मारवा डाला क्योंकि स्टालिन को डर था  कि  कहीं  यह  लोग  भविष्य  में  उसके खिलाफ खड़े ना हो जाए। स्टालिन ने हिटलर से खाई ज्यादा लोगो को  मरवाया है उसको तीन से चार करोड़ लोगों की मौत का जिम्मेदार माना जाता है।

माओ जेडोंग

माओ  एक चाइनीस कम्युनिस्ट थे जिसमें वह अपनी पार्टी के चेयरमैन थे  और उन्होंने चाइना पर 1949 से 1976 तक राज किया। इन्हें अकेले सबसे बड़े हत्यारे के नाम से भी जाना जाता है। यह लगभग चाइना में 80000000 लोगों की मौत के जिम्मेदार है। उनके राज में उनके खिलाफ कोई आवाज उठाता था उसको मार डालते थे। और उनके राज में चाइना दुनिया का सबसे भ्रष्ट देश बन गया था। जो लोग इतने बूढ़े हो चुके थे ।

उन्हें कभी खाना नहीं दिया जाता था और उन्हें ऐसे ही भूखा मरने के लिए छोड़ दिया जाता था और अगर कोई इसके कारण खाना चुराता पकड़ा जाता तो उसे उनके बच्चों के सामने जिंदा जमीन में दफना दिया जाता था। माना जाता है कि माओ को सत्ता का लालच था और अपना रोब दिखाना पसंद था । अपनेपहले 5 सालों में ही  60 से 70 लाख हत्याए करवाई थी ।

उम्मीद है की आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आया होगा ।

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here