आज हम आपको भारतीय संविधान Indian Constitution का इतिहास बहुत विशाल और विख्यात रहा है, 1947 से पहले भारत दो भागों में विभाजित था, लेकिन फिर इन दो भागों ने एक जुट होकर भारत के लिए केंद्र (Central) शासित देश बनाने का फ़ैसला लिया, लेकिन आज भी ब्रिटिश काल के बहुत सी संरचनाओं का पालन किया जाता है, भारत के स्वतंत्रता से पहले कई अधिनियम (Act) पारित हुए जो भरतीय संविधान (Indian Constitution) का इतिहास बने।

भारतीय संविधान के विकास का संक्षिप्त इतिहास

भारतीय संविधान के विकास का संक्षिप्त इतिहास History of Indian Constitution

भारत की प्रशासनिक व्यवस्था Administrarive System of India-

भारतीय संसद (Indian Parliament) लोकतंत्र (Democracy) का रूप है जहाँ कार्यकारी संसद के लिए ज़िम्मेदार होता है। संसद के दो भाग होते है- लोक सभा (Lok Sabha) और राज्य सभा (Rajya Sabha) साथ ही साथ भारत एक संघीय देश है, साथ हु साथ कार्यकारी और विधायी(Executive and Legislative) रूप में.

केंद्रीय और राजकीय (Central and State) भाग में विभाजित हुआ साथ ही साथ भारत मे स्थानीय आधार पर स्वयं शासन भी लागू हुआ। और यह सभी संरचनाएँ मूलभूत तौर से ब्रिटिश (British Empire) शासन पर आधारित था। तो चलिए अब जानते है भारतीय संविधान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि History of Indian Constitution

भरतीय संविधान (Indian Constitution) के लिए पहला कदम रेग्युलटिंग अधिनियम 1773 मे Regulating Act से उठाया गया जिसके अंतर्गत वॉरेन हैस्टिंग्स Warran Hastings बंगाल के पहले गवर्नर जनरल (Governor General) बनें इस अधिनियम को ईस्ट इंडिया कम्पनी (East India Company) की बागडोर को संभालने के लिए लागू किया गया था जिसमें आधिकारिक परिषद (Executive Council) का गठन किया गया.

भारतीय संविधान का निर्माण

जिसके अंतर्गत 4 सदस्य आते थे इसके भिन्न कोई भी विधान परिषद (Legislative Council) गठित नहीं की गई थी। 1774 में सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court) की स्थापना अपैक्स न्यायालय (Apex Court) के रूप मे फोर्ट विलियम-कलकत्ता (Fort William Calcutta) में की गई थी।

इस अधिनियम के अनुसार कम्पनी के कार्यकर्ताओं को किसी भी अन्य निजी (Private) व्यवसाय में  शामिल होने की अनुमति नहीं थी। और न्यायलय के उच्च अधिकारियों को अपने आय का हिसाब देना होता था और इसके बाद पिट्स इंडिया अधिनियम को (Pits India Act) को 1784 में लागू किया गया जिसने सरकार के व्यवसायिक (Commercial) और राजनीतिक कार्यों को  अलग अलग किया।

और सरकार की इकाइयों को मद्रास (Madras) और बम्बई (bombay) में स्थापित किया गया। कम्पनी के राज्यों को भारत मे  ब्रिटिश आधिकारिक (British Possession) क्षेत्र कहा गया। जो इसके बाद व्यवसाय क्षेत्र के लिए 1813 के चार्टर अधिनियम (Charter Act) को लागू किया और फिर 1833 के और 1853 में भी चार्टर अधिनियम (Charter Act) को लागू किया गया।

भारतीय संविधान की रचना

गवर्नमेंट ऑफ इंडिया अधिनियम (Government of India Act) 1858

इस अधिनियम अंतर्गत गवर्नर जनरल को वाइस-रोय में बदल दिया गया और लार्ड कैनिंग (Lord Canning) भारत के प्रथम वाइस-रोय (Voice roy) बने। भारतीय संविधान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि History of Indian Constitution में आगे-

इंडियन कॉउन्सिल अधिनियम indian Council Act 1861

इस अधिनियम के अंतर्गत सबसे पहले वाइस-रोय (Voice roy) ने कार्यकारी और विधायी(Executive and Legislative में नेतृत्व किया साथ ही साथ विकेंद्रीकरण (Decentralisation) को मद्रास (Madras) और बम्बई (Bombay) में अपनाया गया।

इंडियन कॉउन्सिल अधिनियम indian Council Act 1892 के अंतर्गत अप्रत्यक्ष चुनावों की शुरुआत हुई साथ ही साथ विधान परिषद (Legislative Council) में बजट पर बात-चीत करने का प्रतिरूप शुरू हुआ। इसके बाद इंडियन कॉउन्सिल अधिनियम indian Council Act 1909 में लागू हुआ.

भारतीय संविधान की प्रस्तावना

और इस अधिनियम को मोर्ले मिंटो रिफॉर्म्स (Morley Minto Reforms) और सेंट्रल लेजिस्लेटिव कॉउन्सिल (Central Legislative Council) का नाम बदल कर इम्पीरियल लेजिस्लेटिव कॉउन्सिल (Imperial Legislative Council) रख दिया गया और सेंट्रल लेजिस्लेटिव कॉउन्सिल (Central Legislative Council) के सदस्यों की गिनती 16 से लेकर 60 सदस्यों तक पहुँच गई।

जो भारतीय संविधान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि History of Indian Constitution बना गवर्नमेंट ऑफ इंडिया अधिनियम (Government of India Act) को 1919 में लागू हुआ इस अधिनियम को मोंटग चेलमस्फोर्ड रिफॉर्न्स (Montague Chelmsford Reforms) भी कहा गया और लोक सेवा आयोग (Public Service Commission) कि स्थापना की गई।

गवर्नमेंट ऑफ इंडिया अधिनियम (Government of India Act) के अंतर्गत आल इंडिया फेडरेशन (All India Federation) की स्थापना हुई और तीन सूचियों की शुरुआत हुई- संघवादी सूची (Federal List), प्रांतीय सूची (Provincial List) समवर्ती सूची (Concurrent List) कि शुरुआत हुई संघवादी सूची (Federal List) में 59 अंग ,प्रांतीय सूची (Provincial List) में 54 अंग और समवर्ती सूची (Concurrent List) में 36 अंग।

अवशिष्ट शक्तियाँ गवर्नर जनरल के पास सुरक्षित थी। द्वि सरकार पद्धति (Dual Government) और प्रांतीय स्वराज्य (Provincial Autonomy) को भी प्रस्तावित किया गया और संघीय न्यायालय (Federal Court) की भी स्थापना हुई और यह

भारतीय संविधान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि History of Indian Constitution के मुख्य पहलू बने।

भरतीय स्वतंत्रता अधिनियम Indian Independence Act 1947

भरतीय स्वतंत्रता अधिनियम के अंतर्गत भारत को एक स्वतंत्र और स्वायक्त राष्ट्र के रूप में घोषित किया गया और केंद्र एवम राज्य (Central and State)दोनों आधारों पर सरकार की स्थापना की गई। वॉइस रॉय(Voice roy) के साथ साथ राजकीय स्तर पर भी राज्यपाल को निर्धारित किया गया.

जो भारतीय संविधान (Indian Constitution) के अलौकिक सफर की मुख्य कड़ी बना और घटक सभा (Constituent Assembly) के दो आधार बनाए गए- घटक और विधायी (Constituent and Legislative) और भारत को स्वतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया। जो भारत की प्रशासनिक व्यवस्था Administrarive System of India के मुख्य घटक बने।

संविधान की परिभाषा

Main Heads of History of Indian Constitution

भारतीय संविधान ( Indian Constitution) के सफर में चार्टर अधिनियम (Charter Act) 1833 के पहले पारित हुए कानूनों को नियम और उसके बाद पारित हुए कानूनों को अधिनियम कहा गया। 1722 में लार्ड वारेन हेस्टिंग्स (Lord Warren Hastings) ने डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर (District Collector) के कार्यलय की स्थापना की जिसके बाद भारतीय संविधान और भी विस्तृत हुआ।

1870 में लार्ड मेयो (Lord Mayo) द्वारा प्रस्तावित आर्थिक विकेंद्रीकरण (Financial Decentralisation) की नीति से भारत स्थानीय सरकार के पक्ष और भी सशक्त हुआ। 1921 में रेल बजट को आम बजट (General Budget) से अलग किया गया।

ReadMore:- भारत का संविधान कब और किस लिए बनाया गया भारतीय संविधान

1947 तक भारतीय सरकार 1909 अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार ही कार्य किया उसके बाद प्रबन्धक शाखा (executive Council) में विभक्त हुआ। भारतीय संविधान की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि में फिर विधान परिषद (Legislative Council) राज्य सभा (Rajya Sabha) और लोक सभा (Lok Sabha) में बदल गया तो यह थी सविधान की पूरी जानकारी.

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here