Goa History Hindi गोवा का इतिहास हिंदी में – समुद्रीय तट पर बसा एक छोटा सा राज्य जो की भले भारत का सब से छोटा राज्य हो पर गोवा का इतिहास उतना ही बड़ा है। ये भारत का ऐसा राज्य है जो की पुरे देश के आज़ाद होने के बाद भी आज़ाद नहीं हो पाया था और पुर्तगालो के ही अधिकार में था।

गोवा का इतिहास महाभारत काल से पहले भी देखने को मिलता है। उस समय गोवा को गोपराष्ट्र कहते थे। इसका अर्थ है वो राष्ट जहाँ जय चराने वाले रहते हो कही गोवा का नाम गोवकपुरी तो कही गोकापाटन,गोवे,गोअंचल आदि नामो से जाने वाला ये प्रदेश जनसँख्या के  भारत के सब से सब से काम जनसँख्या वाले राज्यों में चौथे स्थान पर है।  मध्य युग के यात्रियों ने इसे चंदौर और चंद्रपुर भी कहा। Goa Historyगोवा का इतिहास इनफार्मेशन हिंदी में Goa History in Hindi

गोवा नाम  गोवा को पुर्तगालियों ने दिया है जो एक क्षेत्र गोअविल्हा के नाम से जाना जाता था बाद में इस पूरे क्षेत्र को गोवा के नाम से जाना गया। स्कंदपुराण में कहा गया है की गोपा देश सात योजन का था।

गोकर्णादुत्तरे भागे सप्तयोजनविस्तृतं

तत्र गोवापुरी नाम नगरी पापनाशिनी

यहाँ के लोगो की माने तो ये स्थान परशु रामजी के एक  यज्ञ से बना है जिस यज्ञ में परशु राम जी ने अपने बाणो से समुद्र को पीछे धकेल दिया था  वो स्थान बाद में गोवा कहलाया इसलिए आज भी गोवा में कुछ जगहों वाणावली और वाणस्थली भी है। Goa History

Goa History Hindi गोवा का इतिहास हिंदी में

गोवा पर एक नज़र A Quick View of Goa

  • प्रथम मुख्यमंत्री दयाराम बंदोडकर 
  • वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर 
  • राजधानी  –पणजी
  • भाषा कोकणी,अंग्रेजी,मराठी   
  • जनसँख्या यहाँ की population लगभग 1.817  मिलियन  है।
  • राज्यपशु  गौर
  • स्थापना दिवस -30 मई 1987 
  • प्रथम राज्यपाल के पि कनडेथ
  • राज्यपक्षी  बुलबुल      
  • राज्यवृक्ष मत्ती 
  • राज्यादिवस 30 मई 1987 
  • क्षेत्रफल  3,702  वर्ग किलो मीटर
  • कुल जिले  2 
  • सब से बड़ा शहरवास्को गामा 


गोवा का अपना एक अलग ही इतिहास है जो की भारतीय इतिहास में कहीं भी देखने को मिलता है। गोवा में 450 सालो तक पुर्तगाली शासन था। यहाँ कई साम्राज्य आये और गए। आइये एक नज़र डालते है  गोवा के इतिहास पर History of Goa in Hindi . 

मौर्या साम्राज्य  Goa History in Maurya Period

Goa History मौर्या वंश की स्थापना की स्थापना के बाद यहाँ कमशः तीन राजाओ ने राज्य किया जिसमे से एक सुकेतवर्मन दूसरे चंद्रवर्मन और तीसरे अजीतवर्मन थे। पहली सदी के साथ यहाँ पर सातवाहन वंश ने अपना साम्राज्य स्थापित किया जिस के बाद गोवा चालुक्यो  के अधिपत्य में आया। उसके बाद मुग़ल साम्राज्य की स्थापना के पहले और भी कई राजाओ का यहाँ राज्य चला और नष्ट भी हुआ।

मध्य काल  Goa History hindi me in Medieval  Period

मुग़ल साम्राज्य की स्थापना यहाँ 1312 हुई पर विजयनगर के राजा ने यहाँ उस राज्य को ज्यादा दिन तक चलने नहीं दिया मुगलो को हरा दिया और 100 वर्षो तक यहाँ राज्य किया। इस राज्य के बाद बहामी सुल्तान ने गोवेल्हा पर विजय प्राप्त कर ली कुछ समय बाद इनका  साम्राज्य खतम हो गया और आदिल शाह ने यहाँ राज्य किया और इसे अपनी दूसरी राजधानी का दर्जा भी दिया।

पुर्तगाली साम्राज्य History of Goa in Portuguese Period 

क्युकी गोवा समुद्र तट पर बसा था इसलिए यहाँ पर पुर्तगाली साम्राज्य की स्थापना हुई जो की 4 सदियों तक स्थायी रहा। इस साम्राज्य की शरुवात 1510 में हुई जब अपने एक सहयोगी के साथ मिल कर पुर्तगालियों ने मुग़ल बादशाह आदिल शाह हो हरा दिया। पुर्तगालियों ने ही गोवेल्हा की राजधानी पंजिम बनायीं। और इसका विस्तार भी किया। आज भी गोवा में पुर्तगालियों के द्वारा बनायीं गयी कई इमारतें है जिसमे अगोडा फोर्ट,चपोरा फोर्ट आदि शामिल है।

आज़ादी के बाद का गोवा Goa History गोवा का इतिहास

जब 1947 में भारत को आज़ादी मिल गयी थी तब भी यहाँ पर पुर्तगालियों का ही राज्य स्थापित था। भारत सरकार के बारबार अनुरोध करने पर भी पुर्तगाली यहाँ से जाने को तैयार नहीं थे। इस साम्राज्य के खिलाफ 1955 में सत्याग्रह भी हुआ पर पुर्तगालियों ने क्रूरता दिखते हुए 22 लोगो को अपनी बंदूक का निशाना बना दिया।

उस समय हमारे देश के प्रधानमंत्री नेहरू जी थे जिनको ये बात बर्दाश नहीं हुई और भारतीय सेना को 1961  एक ओप्रशन विजय सौपा। इस ओप्रशन में भारतीय सेना की जीत हुई और गोवा पुर्तगाली साम्राज्य के हाथ से निकल कर 1987 में भारत का 25वा राज्य बन गया।

गोवा से जुड़े कुछ खास तथ्य Goa History गोवा का इतिहास हिंदी में

अर्थववस्था :यहाँ की economy वैसे तो tourism based है। पर इसके अलावा यहाँ और भी चीज़े है जो की बहार के देशो में भी भेजी जाती है जिसमे से सब से मशहूर यहाँ का काजू है जो यूरोपीय देशो में भेजा जाता है। समुद्र तट पर होने की वजह से यहाँ मछली पालन का उद्द्योग भी होता है। यहाँ लोहा भी पाया जाता है जो की जापान और चीन में भेजा जाता है। इसके बाद अगर कोई चीज़ है जिस से यहाँ के लोगो की जीविका चलती है तो वो पर्यटन है। गोवा अपनी सुंदरता के कारण पूरे विश्व में प्रसिद्द है ऐसे में यहाँ पर लोग हर मौसम में घूमने आते है।

शिक्षा:बात अगर शिक्षा की करें तो भारत में केरला,त्रिपुरा और मिजोरम के बाद गोवा की Literacy Rate सब से ज्यादा है। गोवा भारत  में सब से छोटे चौथे राज्य होने के साथ ही शिक्षा में सब से शिक्षित राज्यों में से एक है।

यातायात :यहाँ आनेजाने के बहुत सारे साधन है जिसमे प्राइवेट कार,बस आदि शामिल है। यहाँ एयरपोर्ट भी है। Goa History

यह राज्य मुंबई और बैंगलोर के पास है इसलिए यहाँ पर इन दोनों महानगरों से बसे भी चलती है। यहाँ रेलवेस भी है। अगर बात करे गोवा के अंदर घूमने और आने जाने की तो यहाँ बहुत सी सुविधाएं उपलब्ध है। आप को यहाँ पर रेंटल कार बहुत कम दिखयी देगी क्युकी लोग ज्यादातर मोटरसाइकिल और स्कूटी से घूमना पसंद करते है।

History of Goa, History Information Goa in hindi

संस्कृति :यहाँ  सभ्यता और संस्कृति बहुत पुरानी और हिन्दू धर्म पर आधारित है पर एक लम्बे समय तक पुर्तगालियों ने यहाँ पर शासन किया इसलिए  उनकी संस्कृति का प्रभाव गोवा पर  साफ़ दिखाई देता है। लोग यहाँ दो धर्मो को मानते है जिसमे 60 % हिन्दू और 28 % ईसाई है। यहाँ की सभ्यता पर हिन्दुओ का प्राचीन कल से ही प्रभाव था इसलिए कुछ पूराने मंदिर तथा वास्तुकला के कुछ नमूने देखने को मिलते है। गोवा का इतिहास पुर्तगाली समय में बने बहुत सुन्दर गिरजाघरों से भी समृद्ध है।

पर्यटन :क्युकी गोवा का मुख्य व्यवसाय पर्यटन ही है इसलिए आइये बात करते है गोवा के कुछ पर्यटन स्थल की। गोवा में दो शहर है :1 )उत्तर गोवा North Goa   ) दक्षिण गोवा South Goa

ओल्ड गोवा Old Goa का इतिहास 

Goa Historyयहाँ पर पुर्तगालियों के समय में बनी प्राचीन इमारते जिसमेचर्च ऑफ़ सेंट फ्रांसिसबहुत पुराना और मशहूर है। ओल्ड गोवा पणजी में है जो की पुर्तगालियों की राजधानी थी। यहाँ के ज्यादातर इमारते अब पुरातत्व विभाग के देखरेख में है।

अगोडाये स्थान शहर की भीड़ से बिलकुल अलग बसा हुआ है। समुद्र का किनारा,छोटीछोटी हट्स यहाँ की सुंदरता बढाती है।

अंजुना :यह नार्थ गोवा का एक हिस्सा है जहाँ मार्किट भी लगती है। जहाँ सारे सामान मिलते है। 

अरम्बोल :पहले अरम्बोल एक छोटा सा गांव था पर अब यहाँ लोगो की भीड़ होती है। लोग यहाँ कई तरीके के वाटर स्पोर्ट्स का मज़ा लेते हुए दिखाई देते है। ये एक बिच है इसलिए लोग यहाँ अपनी शाम बिताने,सनसेट देखने आते है।

बागा और कलंगुट ये बीच गोवा के सब से ज्यादा मशहूर  माने जाते है।

कोलवा यहाँ अन्य बिच के मुताबिक ज्यादा भीड़ होती है। यहाँ कुछ रेस्तरां और होटल भी है जहॉ लोग रुकते है और यहाँ के खाने का लुफ्त भी लेते है। यहाँ की कुछ ड्रिंक्स बहुत प्रसिद्द है।

Goa History – Culture, Religion and Lifestyle in Goa

पणजी गोवा का सब से ऐतिहासिक शहर पणजी है जहाँ एशिया का सब से पुराना और भारत का पहला मेडिकल कॉलेज पुर्तगालियों द्वारा स्थापित है। इस शहर में देखने के लिए आप को बहुत सी पुरानी  इमारते मिलेंगी जिनमे फोर्ट अगुआदा,रिस मागोस फोर्ट,सचिवालय,डोना पौला बीच,मीरामार बीच,दुर्गा मंदिर,जामा मज्जिद आदि देखने को मिलेंगे।

वास्को दा गामा :अगर  असल गोवा की संस्कति देखनी हो तो इस स्थान पर जरूर जाये।पुर्तगालियों का औद्योगिक केंद्र ये स्थान अपने सुन्दर बीचो की वजह से भी बहुत लोकप्रिय है।

मापुसा ये जगह औरतो की सब से पसंद की जगहों में से एक है क्योकि यहाँ पर सामान काम दामों में और अच्छे मिल जाते है। वैसे तो हर दिन ही यहाँ लोगो की  होती है पर मापुसा का Friday Market बहुत प्रसिद्द है  आकर्षित करता है।

Read more:- बिहार का इतिहास की important जानकारी History of Bihar in Hindi

Tags:- गोआ का इतिहास, पोर्तुगीज व्यापारी गोवा कोनसी साल में आये, गोवा की आजादी, गोवा कब स्वतंत्र हुआ, goa in hindi, गोवा दर्शनीय स्थल, पोर्तुगीज व्यापारी गोवा कोनसी साल में आए, गोवा का संरक्षक संत कौन है, Goa’s history, Portuguese merchants came in the years, Goa’s independence, when independence in Goa, goa in hindi, Goa sightseeing, Portuguese merchants came to Goa in what year, who is the patron saint of Goa.

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here