Gujarat History In Hindi – प्राचीन समय से ही गुजरात का अपना एक अलग ही इतिहास रहा है जो की कई राज्यों के इतिहास से सम्बन्ध रखता है। विशाल समुद्र तट पर स्थित होने की वजह से यहाँ अनेको विदेशी जातियाँ यहाँ पर आयी और यही की हो कर रह गयी। गुजरात भारत का एक महत्वपूर्ण राज्य है। बात करते है इसके नाम की। गुजरात का नाम यहाँ पर रहने वाले गुर्जर के नाम पे पड़ा है ,इस गुर्जरो को कुछ लोग रघुवंशी,आर्य या सूर्यवंशी मानते है।

यह प्रदेश पश्चिम भारत में स्थित है और भारत की बाहरी सीमाओं को भी छूता है। यहाँ 28 आदिवासी जातियाँ है जिसकी वजह से यहाँ अनेक तरह की संस्कृति देखने को मिलती है। कच्छ, सौराष्ट्र, हालार, पांचाल, गोहिलवाड, झालावाड यहाँ के प्रमुख अंग है। अहमदाबाद यहाँ का प्रमुख व्यावसायिक केंद्र है। यहाँ का कच्छ अपने white sand desert के लिए जाना जाता है। गुजरात की जानकारी, तथ्य, इतिहास | Gujarat History In Hindi

छोटा सा परिचय गुजरात का A QUICK VIEW OF GUJARAT History

Gujarat Ki History Hindi Me

1.सत्रहवीं सदी में अंग्रेजों के आने से मराठा शक्ति थोड़ा दबाव में आई और राज्य कई रियासतों में बँट गया जैसे अहमदाबाद, भरूच, पंचमहल, कैरा और सूरत जिस पर अंग्रेजों ने राज किया।२.महमूद गजनी से लेकर अलाउद्दीन खिलजी और राजा अकबर तक सभी ने अपने पराक्रम से गुजरात को जीता लेकिन फिर इन मुस्लिम राजाओं को मराठा राजा शिवाजी ने सत्ता से बाहर कर दिया।
3.उनकी मौत के बाद कई राजवंश आए जैसे साका, शुंगा, मैत्रका, चैरा, सौलंकी और बघिलाह आदि जिन्होंने गुजरात पर राज किया और फिर मुसलमानों ने यहां हमला कर लगभग 400 सालों तक राज किया।4. इसके बाद मौर्य वंश आया जिसके राजा चन्द्रगुप्त मौर्य और उनके पौत्र राजा अशोक ने इस क्षेत्र में अपना वर्चस्व स्थापित किया।
5. गुजरात में सबसे पहले गुज्जर आकर बसे, जो कि पाकिस्तान और अफगानिस्तान से थे।6. गुजरात के इतिहास को प्राचीन, मध्यकालीन और आधुनिक उपवर्गों में बाँटा जा सकता है। प्राचीन इतिहास को सिंधु घाटी सभ्यता से जोड़ा जा सकता है।
7. यहाँ के प्रमुख उधोग धंधे पेट्रोलियम, कृषि, भारी खनिज है।8. गुजरात का जनसंख्या घनत्व 310 प्रति वर्ग किमी है।
९. गुजरात कपास, तम्बाकू और मूँगफली का उत्पादन करने वाला देश का प्रमुख राज्य है10. यहाँ का गरबा नृत्य बहुत प्रसिद्ध है
11. गुजरात का सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशन वडोदरा जंक्शन है यहाँ से हर रोज 150 से भी ज्यादा ट्रेन गुजरती हैं।१२. गुजरात के वनों में उपलबध वृक्षों की जातियाँ हैं-सागवान, खैर, हलदरियो, सादाद और बाँस
13. भारतीय प्रायदीप के पश्चिमी तट पर स्थित होने के कारण इस राज्य में देश का तीसरा सबसे लंबा समुद्री किनारा है जो कि 1300 किमी लंबा है।14. गुजरात में कुल 40 बन्दरगाह हैं। काण्डला राज्य का प्रमुख बन्दरगाह है।

 

गुजरात की जानकारी, तथ्य, इतिहास | Gujarat History In Hindi

15. गुजरात (Gujarat) की स्थापना 1 मई 1960 को हुई थी, इसकी राजधानी गांधीनगर है।16. गुजरात में 182 विधानसभा 26 लोकसभा तथा 11 राज्यसभा की सीटें है।
17. यहाँ का सबसे बड़ा नगर अहमदाबाद है।18. महात्मा गाँधी का जन्म स्थान गुजरात ही हैं।
19. राष्ट्रपति द्वारा नियुक्त राज्यपाल गुजरात के प्रशासन का प्रमुख होता है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में मंत्रिमंडल राज्यपाल को उसके कामकाज में सहयोग और सलाह देता है।20. गुजरात भारत का सबसे बड़ा औद्योगिक राज्य है जिसका राष्ट्र के कुछ महत्वपूर्ण कारोबारों पर कब्जा है। कपड़ा, रसायन, बिजली, इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग, वनस्पति तेल, सोडा एश और उर्वरकों का निर्माण राज्य में होता है।
21. यहाँ का क्षेत्रफल 19,624 प्रतिवर्ग किमी तथा गुजरात में 26 जिले है।22. गुजरात में 89.1% हिन्दू 9.1%, मुस्लिम 4.0% सिख और जैन तथा इसाई है।
23. गुजरात का जनसंख्या घनत्व 310 प्रति वर्ग किमी है।24. गुजरात की जनसंख्या लगभग 6,03,83,628 है।
25. यहाँ की मुख्य भाषा गुजरती, हिंदी, और अंग्रेजी है।26. यहाँ के प्रमुख उधोग धंधे पेट्रोलियम, कृषि, भारी खनिज है।
27. गुजरात के प्रमुख पर्यटन स्थल सतपुड़ा की पहाड़ियां, मांडवी बीच, सोमनाथ मंदिर, द्वारकाधीश मंदिर, मोधेरा का सूर्य मंदिर, तथा कच्छ तथा भुज है।28. भारतीय प्रायदीप के पश्चिमी तट पर स्थित होने के कारण इस राज्य में देश का तीसरा सबसे लंबा समुद्री किनारा है जो कि 1300 किमी लंबा है।
29. आजादी के बाद गुजरात बम्बई राज्य का हिस्सा बन गया जिस पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने शासन किया।30. स्वतन्त्रता से पहले गुजरात का वर्तमान क्षेत्र मुख्‍य रूप से दो भागों में विभक्त था- एक ब्रिटिश क्षेत्र और दूसरा देसी रियासतें।
31. 1960 में बम्बई राज्य को महाराष्ट्र और गुजरात में बाँटा गया और उन्हें अलग राज्यों का दर्जा मिला।32. गुजरात को “पश्चिम का जेवर“ भी कहते हैं और यहां कई प्रकार के संग्रहालय, किले, अभयारण्य, मंदिर और कई रूचिकर जगहें हैं जो पर्यटकों के लिए दावत से कम नहीं हैं।

Gujarat History Hindi Me गुजरात का इतिहास हिंदी में

गुजरात का इतिहास बहुत ही रोचक और 2000 साल पुराना है। आइये एक नज़र डालते है गुजरात के इतिहास पर: यहाँ पर भगवान श्री कृष्णा की नगरी द्वारिका है जिसके अवशेष आज भी समुद्र तल में पाए जाते है।

गुजरात का इतिहास पाषाण युग जितना पुराना है जिसके बाद कांस्य युग और सिंधु घाटी सभ्यता भी यहाँ से जुडी हुई है। गुजरात के तटीय शहरों, मुख्यतः भरूच, नंद, मौर्य, सातवाहन और गुप्त साम्राज्य के साथसाथ पश्चिमी  बंदरगाहों और व्यापारिक केंद्रों के रूप में कार्य कर रहे थे। 6 वीं शताब्दी में गुप्त साम्राज्य के पतन के बाद, गुजरात एक स्वतंत्र हिंदू  राज्यों के रूप में विकसित हुआ।

10 शताब्दी में चालुक्यों का यहाँ साम्राज्य स्थापित हुआ जिसमे गुजरात अपने विकास के शिखर तक पंहुचा।

18 वीं सदी में गुजरात पर मराठा साम्राज्य का नियंत्रण हो गया ,गायकवाड़ राजवंश के पहले शासक गायकवाड़ ने बड़ौदा और गुजरात के कई हिस्से अपने नियंत्रण में कर लिए  1761 में पानीपत युद्ध के बाद, सभी मराठों ने खुद को एक स्वायत्त सरकार के रूप में स्थापित किया।

Gujarat History Information In Hindi

मौर्या साम्राज्य:गुजरात के कई क्षेत्रो में मौर्या का साम्राज्य था उस समय पुष्यगुप्त को सौराष्ट्र जो की गुजरात का एक भाग है वहाँ का राजयपाल नियुक्त किया गया।

मौर्या वंश की आधार शिला रखने वाले चंद्रगुप्त मौर्या के पोते महान अशोक ने जूनागढ़ के चट्टानों पर अपने पदों को लिखवाया साथ ही साथ यहाँ की झीलों से नहरें भी बनवायी जिस से जल की पूर्ति हो सके। इस झील पर एक बांध भी बना था जो  की एक मौर्या राजपाल ने ही बनवाया था।

मुग़ल साम्राज्य:सम्राट अकबर के समय में गुजरात एक प्रसिद्द प्रांत बन गया था जहाँ  पर अकबर द्वारा नियुक्त राजयपाल नियंत्रण करते थे। मुग़ल शासक अहमद शाह ने गुजरात के अहमदाबाद को अपनी राजधानी बनायीं।

मराठा साम्राज्य :जब 17 वीं शताब्दी के मध्य में मुगल साम्राज्य कमज़ोर पड़ गया  तो मराठों ने पश्चिम में अपनी शक्ति मजबूत कर दी थी, छत्रपति शिवाजी, महान मराठा शासक, 1664 में सूरत पर हमला किया। इन हमलों ने मराठों को गुजरात में प्रवेश दिया। 

गुजरात से जुड़े कुछ तथ्य Gujarat History

ब्रिटिश साम्राज्य : मराठो के बाद जुगरात में डच और यूरोपीय लोगो ने राज्य किया जिसके बाद ब्रिटिशो ने गुजरात पर अपना अधिपत्य स्थापित कर लिया। फिरंगियों के लिए गुजरात में भी विरोध की भावना जागी और यहाँ के लोगो ने भी बड़े साहस के साथ अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाईयाँ लड़ी। इसमें से महात्मा गाँधी,सरदार वल्लभ भाई पटेल,मुरारी जी देसाई,महादेव देसाई तथा अन्य कई लोगो की अहम् भूमिका रही।   

बड़ौदा को छोड़कर गुजरात के अन्य कई हिस्से मुंबई प्रेसेडेंसी में आते थे उस समय इस प्रेसेडेंसी पर गवर्नर का अधिकार था। 1960 में मुंबई के भी कुछ हिस्सों को मिलाकर वर्तमान का गुजरात बना।

 शिक्षा :यहाँ शिक्षा का को बहुत महत्व दिया जाता है इसलिए आदिवासी छात्रों के लिए कला,शिल्प और अन्य छात्रों के लिए अनेक प्राथमिक,माध्यमिक तथा उच्चतर विद्यायलय है। 

यहाँ नौ महाविद्यालय भी है तथा कई शोध संस्थानों भी है जिसमे अहमदाबाद में फ़िज़िकल रिसर्च लेबोरेटरी अहमदाबाद टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज़ रिसर्च एशोसिएशन, सेठ भोलाभाई जेसिंगभाई इंस्टिट्यूट ऑफ़ लर्निंग ऐंड रिसर्च, इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ डिज़ाइन और सरदार पटेल इंस्टिट्यूट ऑफ़ इकोनॉमिक ऐंड सोशल रिसर्च, वडोदरा में ओरिएंटल इंस्टिट्यूट तथा भावनगर में सेंट्रल साल्ट ऐंड मॅरीन केमिकल रिसर्च इंस्टिट्यूट शामिल है।

Gujarat etihas Hindi me Gujarat History

अर्थववस्था :गुजरात की अर्थववस्था सुदृण है जिसमे कृषि,कच्चा मॉल उद्योग आदि शामिल है। गुजरात की मुख्य फैसले कपास,मूंगफली,इसबगोल,ज्वार,बाजरा  अदि है। इस सब के अलावा यहाँ साबुन,कपडा आदि का कच्चा मॉल भी तैयार किया जाता है। यहाँ कुछ लघु उद्योग भी चलाये जाते है जिसे यहाँ के लोगो को रोज़गार मिलता है। 
भाषा :वैसे तो गुजरात में गुजराती और हिंदी यहाँ की राज्य भाषा है पर महाराष्ट्र के पास होने की वजह से यहाँ लोग मराठी भी बोलते है तथा इन तीनो भाषाओ के अलावा अंग्रेजी का भी प्रयोग किया जाता है। 

यातायात: परिवहन के भी यहाँ पर हर तरह के साधन उपलब्ध है। जिसमे बस,रेल,हवाई जहाज़ ,बंदरगाह आदि शामिल है। यहाँ के अहमदाबाद को एक इंटरनेशनल एयरपोर्ट माना जाता है इसके अलावा यहाँ के मुख्य शहरों में भी एयरपोर्ट है। गुजरात में 40 बंदरगाह भी है जो की यहाँ के व्यापर को बढ़ने में सहायक है।  

स्वास्थ :कई बड़े रोगो के इलाज के लिए यहाँ सरकारी अस्पताल है साथ ही साथ लोगो के स्वास्थ में सुधर करने के लिए अनेक कायक्रम भी चलए जा रहे है। 

धर्म :यहाँ पर वैसे तो  में हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग है पर  कुछ लोग  मुस्लिम,पारसी और जैन धर्म के भी अनुयायी है। 

Read More:- राजस्थान की जानकारी, तथ्य, इतिहास हिंदी में Rajasthan History in hindi

संस्कृति :यहाँ की संस्कृति बड़ी ही अनोखी है क्युकी यहाँ की संस्कृति कई  सभ्यताओं से जुडी है। यहाँ गरबा नित्य बड़ा मशहूर है जो की नवरात्री के नौ दिन किया जाता है। यहाँ की पारंपरिक वेशभूषा भी बहुत अलग है। गुजरात में कई हस्तशिल्प देखने को मिलते है जिसमे कपड़ो पर शीशे का काम,बांधनी जो की एक तरह का प्रिंट होता है शामिल है। यहाँ लकड़ी की नक्काशी भी होती है जो की यहाँ की संस्कति की एक झलक प्रस्तुत करती है। मुग़ल काल में भी गुजरात की काष्ठ नक्काशी देखने को मिलती है। जिस समय अन्य राज्यों में पत्त्थरो पर  समय भी गुजरात के लोग लकड़ियों पर ही नक्काशी करते थे।

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here