हिमाचल प्रदेश का इतिहास History of Himachal Pradesh – भारत के उत्तरपश्चिम भाग में ये  जिसे हम हिमाचल प्रदेश के नाम से जानते हैएक अत्यंत सुन्दर प्रदेश है जिसमे बारहमासी नदियाँ बहती है जिसके कारण ये कई अन्य राज्यों को पानी,बिजली देता है। दिल्ली हिमाचल प्रदेश का अर्थ हैबर्फीली पहाड़ी का प्रदेशजैसा की इसके नाम से ही पता चलता है ये प्रदेश एक ठंडा प्रदेश है.

जहाँ कर लोग अपनी सारी समस्याएं भूल कर यहाँ के प्राकृतिक सौंदर्य में खो जाते है। इस प्रदेश कोदेव भूमिभी कहते है। यहाँ का इतिहास मानव के इतिहास जितना ही पुराना है। यहाँ के कुछ स्थानों पर सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमाण भी मिलते है जो की इसको उस प्राचीन इतिहास से जोड़ते है। हिमाचल प्रदेश का इतिहास History of Himachal Pradesh in hindi

यहाँ के लोगो को दास,निषाद और दस्यु जैसे नामो से जाना जाता है। अगर इसके गठन की बात करे तो अन्य राज्यों के गठन के काफी बाद में हुआ। 25 जनवरी 1971 को गठित कर सरकार ने इसे भारत का अठाइसवा राज्य बना दिया। यहाँ पर प्रति व्यक्ति आय per capita income भी बहुत अधिक है। 

छोटा सा परिचय हिमाचल प्रदेश का A Quick  View Of Himachal Pradesh History

  • प्रथम मुख्यमंत्री यशवंत सिंह परमार 
  • वर्तमान मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर 
  • राजधानी  –शिमला ,धर्मशाला  
  • भाषा हिंदी,अंग्रेजी  
  • जनसँख्या यहाँ की population लगभग 6.856  मिलियन  है।
  • राज्यपशु  हिम तेंदुआ
  • स्थापना दिवस -25 जनवरी 1971 
  • प्रथम राज्यपाल श्री अस चक्रवर्ती
  • राज्यपक्षी  जाजुराना 
  • राज्यफूल गुलाबी बुरांस  
  • राज्यवृक्ष देवदार 
  • राज्यादिवस 25 जनवरी 1971
  • क्षेत्रफल   55,674 वर्ग किलो मीटर
  • कुल जिले  12  सब से बड़ा शहरशिमला 

हिमाचल प्रदेश का इतिहास Himachal Pradesh History hindi में

यहाँ का इतिहास वेदो के इतिहास जैस पुराना है क्युकी ऋग्वेद में इस प्रदेश का विवरण पाया जाता है। यहाँ निषादो के राजा शंभरा इतने शक्तिशाली थे की उनके पास उस समय 99 किले हुआ करते थे। यहाँ पर मिले कई अवशेषों से  पनपी और विकसित हुई सिंधु घाटी सभ्यता के भी अवशेष मिलते है।

यहाँ पर अनेक आदि जातियों ने भी निवास किया जिसमे कोइलियों, हालियों, डोग्रीयों, दास, खासों, किन्नरों और किरतों मुख्य थे। इस प्रदेश के लोगो ने शुरू से ही खुद को गणतंत्र रखा जिस से ये मौर्या साम्राज्य में भी काफी समय तक स्वतंत्र रहे। पर जब गुप्त साम्राज्य साम्राज्य आया तो इन्होने अपनी स्वतंत्रता खो दी। जब गुप्तों का साम्राज्य नष्ट हो गया उस समय के बबाद ये प्रदेश कुछ सालो तक अनेक राजाओ के राज्य का हिस्सा बनता रहा एक समय में कश्मीर के राजा ने भी इस  प्रदेश पर अपना राज्य  लिया था।

Himachal Pradesh ki itihas puri jankari hindi me

मेहमूद गजनबी के शासन  यहाँ मुगलो का शासन आरम्भ हुआ। मुग़ल  यहाँ की सुंदरता से इतने प्रभावित  हुए की यहाँ पर कई तरह की कलाओं से निर्मित सुन्दर कलाकृतियां  कराई। मुग़ल साम्राज्य  यहाँ  प्राकृतिक सुंदरता ने मोह लिया था। 

ब्रिटिश साम्राज्य  History of Himachal Pradesh in  British Period

जब ब्रिटिश साम्राज्य भारत में फैला उस समय भी अंग्रेज़ो को ये प्रदेश बहुत पसंद आया। क्युकी उत्तरी मैदानी भाग में गर्मी इतनी ज्यादा पड़ती थी इसलिए अंग्रेज़ो ने यहाँ कई हिल स्टेशन भी बनवाये। जब भी गर्मी का मौसम आता था, खुद को गर्मी से बचाने के लिए ब्रिटिश यहाँ जाया करते थे। 

आज़ादी के बाद का हिमाचल प्रदेश इतिहास

 1947 में  शिमला हिल स्टेशन यूनियन बना और एच एच आर सी के चुनावो के बाद यशवंत सिंह परमार अध्यक्ष को चुना गया। 1948 में हिमाचल प्रदेश की स्थापना हुई और इस समय इस प्रदेश को चार भागो में बांटा गया। 

1950 में उसका पुनर्गठन हुआ जिसमे विलासपुर और कन्नोर जिलों का विलय हुआ। जब पंजाब का पुरंगाठन हुआ तब कुछ जिलों को हिमाचल प्रदेश में मिला दिया गया। उसके बाद 1971 में फिर से एक बार हिमाचल प्रदेश की स्थापना हुई और उसको वो रूप मिला जो वर्तमान का हिमाचल प्रदेश  है।  

हिमाचल प्रदेश का इतिहास History of Himachal Pradesh

हिमाचल प्रदेश का इतिहास जितना पुराना है उतना ही सुन्दर इसका हर एक जिला है। वैसे तो हिमाचल की राजधानी शिमला है जो अपने प्राक्रतिक सौंदर्य के लिए जनि जाती है कुछ लोग इसे धरती का स्वर्ग भी कहते है। आइये हिमाचल के बारे में कुछ बातें यहाँ पर देखते है। 

पर्यटन स्थल  Himachal Pradesh History jankari hindi me

जो जगह इतनी सुन्दर है और लोग जिसे देव भूमि कहते है उसके पर्यटन स्थलों के बारे में कुछ विवरण  यहाँ पर दिया जा रहा है। 

चम्बा घाटी :रावी  किनारे बसी चम्बा घाटी में अनेक वास्तुकला और रोचक यात्रायें देखें को मिलती है। 

डलहौज़ी यह स्थान ब्रिटिश साम्राज्य के लार्ड डलहौज़ी के नाम से बना है यहाँ पर पांच पहाड़िया है। इस कसबे से धोलापर्वत भी दिखयी देता है। यहाँ सुन्दर गिरिजाघर भी देक्ल्हने को मिलते  है। डलहौज़ी में सुन्दर पहाड़ो,वृक्षों और फूलो की ऐसी सुन्दर छटा बिक्री रहती है जिसे देख कर किसी का भी मन मोहित हो जाये। 

धर्मशाला यह जगह अपने सुन्दर पाइन के वृक्षों,चाय के बागानों के लिए प्रदिद्ध है पर इसकी प्रसिद्द्ता का एक बहुत बड़ा कारन दलाई लामा के मुख्यालय का यहां पर होना भी है। 

कुफरी यह स्थान ठण्ड में आयोजित होने वाली बहुत सारी प्रतियोगिताओ और कार्निवलों के लिए मशहूर है। लोग यहाँ पर प्रतिवर्ष ठण्ड हो या गर्मी आते है।

मनाली कुल्लू से ४० किलोमीटर दूर जाने के बाद जो एक बाहर सुन्दर शहर दीखता है वो मनाली है। यहाँ का सौंदर्य हर मौसम में लोगो के आकर्षण का केंद्र बना रहता है। 

कुल्लू यहाँ के सेब के बागान,घाटियां और मंदिर बहुत प्रसिद्द है। 

Himachal Pradesh history in hindi

शिमलाहिमाचल की राजधानी होने  साथ ही शिमला हिमाचलक का सब से सुन्दर शहर भी है। इस शहर का नाम देवी श्याममला के नाम पर रखा गया है जो की माता काली का अवतार थी। यह शहर आधे चक्र के आकर का है जहाँ से हिमालय के उच्चे शिखर भी दिखयी देते है। ये शहर 12 किलोमीटर की एक पहाड़ी पर बसा हुआ है जिसके अगलबगल सिर्फ जंगल और टेढ़ेमेढ़े रस्ते है। इतने ऊपर बसा होने के कारण इस स्थान से दिखने वाले दृश्य बहुत दुर्लभ है।

Read More:- त्रिपक्षीय संघर्ष और चोल साम्राजय का पूरा इतिहास – मध्यकालीन भारत

Tags:- हिमाचल प्रदेश के जिले, हिमाचल प्रदेश map, हिमाचल प्रदेश की संस्कृति, हिमाचल प्रदेश सामान्य ज्ञान, हिमाचल प्रदेश की भाषा, हिमाचल प्रदेश पर निबंध, हिमाचल प्रदेश की वेशभूषा, हिमाचल दिवस, Himachal Pradesh district, Himachal Pradesh map, Himachal Pradesh culture, Himachal Pradesh general knowledge, language of Himachal Pradesh, Essay on Himachal Pradesh, Himachal Pradesh costumes, Himachal day

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here