Mumbai History in hindi : मायनगरी के नाम से प्रसिद्द मुंबई का नाम पहले बम्बई था। ये दो शब्दों मुंबा +अम्बा नाम से बना है जो की यहाँ के धार्मिकता को प्रदर्शित करता है। यहाँ दुर्गा देवी का मंदिर है जिसे मुंबा देवी नाम से जाना जाता है इनकी के नाम से मुंबई का नाम रखा गया है।

समुद्र तट पर बसे होने के कारण यहाँ पुर्तगाली सब से पहले आये थे। लोग इस नगरी को बॉम्बे Bombay नाम से भी जानते थे। पर इसका आधिकारिक नाम मुंबई Mumbai 1955 में पड़ा। यह महाराष्ट्र की राजधानी होने के साथ-साथ सब से घनी आबादी वाला शहर भी है। इस नगरी का गठन लावा से बने 7 छोटे-छोटे द्वीपों से मिलकर हुआ है। ‘ History of Mumbai in hindi ‘

मुंबई का इतिहास Mumbai History

इस कारण यह समुद्रतट पर बसा हुआ प्रतीत होता है और पश्चिम देशो से आने वाले लोग सीधे यही पर आते है चाहे वो जलमार्ग के द्वारा आये या वायुमार्ग से। भारत का वाणिज्य केंद्र कहलाना वाला मुंबई Mumbai कई आर्थिक संस्थाओ का केंद्र भी है। इन संस्थओं में भारतीय रिसेर्वे बैंक,स्टॉक एक्सचेंज  शामिल है। मुंबई के लिए एक बात और भी लोकप्रिय है “The City That Never Sleeps”.मुंबई का इतिहास की जानकारी - Mumbai History - History of Mumbai in hindi

मुम्बई का नाम, माझी मुंबई निबंध, मुंबई शहर पर निबंध, मुंबई शहराची माहिती, मुंबई शहर माहिती, मुम्बई शहर, मुम्बई की राजधानी क्या है, मुंबई शहर जिला, मुंबई शहर सड़क द्वारा पुणे से 150,नासिक से172 दिल्ली से1398 किलो मीटर दूर है। ” Mumbai History hindi

Read More:- Delhi History hindi Me -दिल्ली का इतिहास – दिल्ली की हिस्ट्री की पूरी जानकारी

पाषाण युग Stone Age अगर हम बात करे मुंबई के इतिहास की तो ये इतिहास पाषाण युग Stone Age जितना पुराना है। ऐसा इसलिए काह जा सकता है क्युकी कांदिवली के तट पर पाषाण युग के कुछ अवशेष मिले है। जिस से पता चलता है की उस समय भी यहाँ पर लोग रहते थे। ये नगरी 250 B.C. पुरानी है।

Mumbai History – History of Mumbai, Bombay India History

विश्वप्रसिद्ध एलिफेंटा की गुफाये और वालकेश्वर मंदिर भी अति प्राचीन है। उस समय इसका नाम हेप्टानेसिया था जो कई बार बदला। मौर्या काल Maurya’s Period की बात करे तो सम्राट अशोक के समय में ये  मौर्या काल का एक द्वीप समूह था।

पहले तो यहाँ के अधिकार पर बहुत विवाद थे पर बाद में हिन्दू राजाओ ने यहाँ पर राज्य किया पर गुजरात के राजा ने कुछ समय बाद मुंबई को अपने अधिकार में कर लिया पर ये अधिकार 1534  में पुर्तगालियों के हाथ में आ गया। उसके बाद ब्रिटिश साम्राज्य ने भी आवागमन के लिए इस जगह को अपना केंद्र बनाया। इस नगरी की आबादी बहुत जल्दी बढ़ गयी और अंग्रेज़ो ने भी इसे अपना एक बड़ा केंद्र बनाया। ( Mumbai History in hindi )

सं 1817 में इसे एक बड़ी नगरी बनाने था द्वीपों से जोड़ने के लिए एक परियोजना चलायी गयी। जो की 1854 में जा कर पूर्ण हुई। इसमें मुंबई का बहुत विकास हुआ। 1906 में मुंबई की जनसँख्या बढ़ कर 1 बिलियन हो गयी। जैसे-जैसे यहाँ पर विकास होता रहा वैसे-वैसे लोग यहाँ की तरफ आकर्षित हो कर आते रहे।

स्वतंत्रता संग्राम में भी ये नगरी एक प्रमुख केंद्र रही। 1950 में कुछ भागो को मिला कर वर्तमान का मुंबई बना। यहाँ पर बना गेटवे ऑफ़ इंडिया Gateway Of India जोर्ज पंचम और रानी मेरी के लिए 1924 में बनवाया गया था।

एक छोटा सा परिचय मुंबई का A Quick view of Mumbai History

जनसांख्यिकी यहां आबादी दिन-ब-दिन बढ़ रही है। 2001 में जनसंख्या 11, 914, 98 थी, जो 2004 में 13,662,885 हो गई थी। यहाँ कई तरह के भाषा बोलने वाले लोग  हैं।1 970 में, इस शहर को कलकत्ता को पीछे छोड़ते हुए भारत के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य में पहली जगह मिली।

मुम्बई में बढ़ते शहरीकरण और विकास के कारण यहां लोगों का परिचालन शुरू हो गया और जिसके कारण मुंबई को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। यह कई राज्यों के लोगों की भारी संख्या के कारण बहुत महंगा शहर बन गया है। यहाँ तक की जगह की कमी   होने के कारण इस शहर में घर खरीदना लोगो के लिए सपना सा होता है। लोग यहाँ स्लम और जुग्गी झोपड़ियों में रहने के लिए मजबूर है। 

संस्कृति Mumbai History मुंबई का इतिहास की जानकारी

यह राज्य अपनी रात के समय के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ कई तरह के भोजन मिलते हैं। अगर संस्कृति की बात है, तो मुंबई सिनेमा का जन्मस्थान है। पता नहीं कि कितने युवा पुरुष और महिलाएं यहां आती हैं और फिल्मों में अपनी किस्मत आजमाते हैं। सिनेमा का जन्म दादासाहेब ने फालके के द्वारा किया गया था । यहां कई सिनेमा घर हैं जो मराठी, हिंदी और अंग्रेजी भाषा फिल्मों को दिखाते हैं। 

भारतीय सिनेमा के लिए सबसे बड़ा पुरस्कार है, “फिल्मफेयर अवार्ड ” यही पर organised किया जाता है।  छत्रपति शिवाजी जी महाराज संग्रहालय, प्रिंस ऑफ वेल्स संग्रहालय यही पर स्थित है। शिवाजी की कितनी चीजें संग्रहीत की गई हैं इतना ही नहीं, मुंबई की संस्कृति भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त थी। इस पहचान को पाने में रुडयार्ड कतरनिंग, अरविंद एडिग और सलमान रस्की शामिल हैं। अपने साहित्य के माध्यम से बहुत सारे अवार्ड अर्जित किए है।

यहां प्रसिद्ध चिड़ियाघर पार्क विक्टोरिया गार्डन के रूप में प्रसिद्ध है। ये उद्यान बहुत हरे और बहुत सुंदर हैं एक पुरातत्व पुस्तकालय मुम्बई म्यू मोबई में भी स्थित है। ब्रिटिश समय की भी कई इमारतें हैं, जिनमें विक्टोरिया टर्मिनल, मुंबई विश्वविद्यालय, गेटवे ऑफ इंडिया की सुंदरता शामिल है। 

शिक्षा Mumbai History in hindi 

Jamnalal Bajaj Institute of Management  Education, SP Jain Management and Research Institute, Veermata Jijabai Institute of Technology ,University Institute of Chemical Technology  ये सब यहाँ के प्रसिद्द विद्यालयों में शामिल है। मुंबई में या तो सरकारी या प्राइवेट महाविद्यालय है। सरकारी महाविद्यालयों की स्थति अच्छी नहीं है.

पर इसके बावजूद  पैसे न होने के कारण यहाँ के गरीब बच्चो को सरकारी कॉलेज में ही एडमिशन लेना पड़ता है।  यहाँ लोग बहुत अधिक मात्रा में साक्षर है जो की 89 % है जिसमे की महिलाओं की 86 % और पुरुषो की 91 % है दोनों को मिला कर 2509022 लोग साक्षर है। 

अर्थववस्था मुंबई इतिहास Mumbai History

ये भारत का बिज़नेस कैपिटल Business Capital  है। यहाँ पर भारत का सब से बड़ा स्टॉक मार्किट,रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया और भी बहुत संस्थाए है। यहाँ पर लोग पैसे ही कमाने आते है। यहाँ काफी Multi National Companies है। जो की भारत की अर्थववस्था को बहुत बढ़ावा देती है। यहाँ कई बंदरगाह है जिस से यहाँ  व्यापर को बहुत बढ़ावा मिलता है और यहाँ कपडा उद्योग है जिस से यहाँ के लोगो को भरी मात्रा में रोज़गार मिलता है। 

यातायात मुंबई इतिहास इन हिन्दी Mumbai History

यहाँ पर यातायात के अनेक साधन उपलब्ध है। जिसमे रोडवेज,रेलवेज,सीवेस तथा एयरवेज है। यहाँ पर कई रेलवे लाइन है। यहाँ पर इंटरनेशनल एयरपोर्ट भी है जिसे छत्रपति शिवा जी इंटरनेशनल एयरपोर्ट के नाम से भी जाना जाता है। समुद्र तट पर होने की वजह से यहाँ यातायात का एक और साधन seaways भी है। 

प्रमुख इमारतें-गेटवे ऑफ़  इंडिया ,ताज होटल,एलिफेंटा की गुफाएं,हाजी अली दरगाह ,लक्ष्मी मंदिर,नटिनॉल गैलेरी ऑफ़ मॉडर्न आर्ट आदि है प्रमुख वृक्ष-नारियल,आम,इमली और बरगद शामिल है।

मुंबई का इतिहास, Mumbai History, मुम्बई का नाम, मुंबई शहर पर निबंध, history of mumbai in hindi, मुंबई शहर जिला, मुंबई दर्शनीय स्थल, मुंबई आकर्षक स्थल, मुंबई शहर माहिती.

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here