Narendra Modi Biography in hindi : आज हम आपको in सभी बातो का जवाब देंगे ,नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय, नरेन्द्र मोदी की जाति क्या है, नरेंद्र मोदी के बारे मे, नरेंद्र मोदी पर निबंध, नरेंद्र मोदी का परिवार, नरेंद्र मोदी की शिक्षा, दामोदरदास मूलचंद मोदी, नरेंद्र मोदी के पिता का नाम.

नरेंद्र मोदी ( नरेंद्र दामोदर दास मोदी,  जन्म 17 सितंबर 1950)  भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री हैं.  भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने उन्हें 26 मई 2014 को भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ दिलाई.  नरेंद्र मोदी स्वतंत्र भारत के 15वें प्रधानमंत्री हैं तथा इस पद पर आसीन होने वाले स्वतंत्र भारत में जन्मे प्रथम व्यक्ति हैं.नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय | Narendra Modi Biography in hindi

नेतृत्व में भारत के  प्रमुख विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी ने 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ा और 282 सीटें जीतकर अभूतपूर्व सफलता प्राप्ति की.  एक सांसद के रूप में उन्होंने उत्तर प्रदेश की संस्कृतिक नगरी वाराणसी एवं अपने गृह राज्य गुजरात के बड़ोदरा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा और दोनों जगह से जीत हासिल की.

Narendra Modi Biography in hindi

इससे पूर्व वह गुजरात राज्य के 14वें मुख्यमंत्री रहे. उन्हें उनके काम के कारण गुजरात की जनता ने लगातार चार बार (2001 से 2014 तक) मुख्यमंत्री चुना. गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त नरेंद्र मोदी विकास पुरुष के नाम से जाने जाते हैं और वर्तमान समय में देश के सबसे लोकप्रिय नेता में से हैं.  माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर भी वह सबसे ज्यादा फ्लावर वाले भारतीय नेता हैं.  टाइम पत्रिका ने मोदी को Person Of The Year 2013 के 42वें उम्मीदवारों की सूचना में शामिल किया है.

अटल बिहारी वाजपेई की तरह नरेंद्र मोदी एक राजनेता और कवि हैं.  गुजराती भाषा के अलावा हिंदी में भी देशप्रेम से ओतप्रोत कविताएं लिखते हैं.

Narendra Modi ki निजी जीवन

  • जन्म: 17 सितंबर 1950 (आयु 67), वड़नगर
  • पूर्ण नाम: Narendra Damodardas Modi
  • पति/पत्नी: जशोदाबेन मोदी (विवा. 1968)
  • शिक्षा: गुजरात विश्वविद्यालय (1983), अधिक
  • पालक: हीराबेन, दामोदरदास मूलचंद मोदी
  • भाई-बहन: प्रहलाद मोदी, पंकज मोदी, सोमा मोदी, अमृत मोदी, वसंतीबेन हसमुखलाल मोदी

नरेंद्र मोदी का जन्म तत्कालीन बाम्बे राज्य के मेहसाना  जिला वडनगर ग्राम में हीराबेन मोदी और दामोदरदास मूलचंद मोदी के एक मध्य-वर्गीय परिवार में 17 सितंबर 1950 को हुआ था. वह पूर्णत:  शाकाहारी है. भारत पाकिस्तान के बीच द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अपने तरुण काल में उन्होंने स्वेकछा से रेलवे स्टेशनों पर सफर कर रहे सैनिकों की सेवा की.  युवावस्था मे वह  छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में शामिल हुए. उन्होंने साथ ही साथ भ्रष्टाचार निरोधी नव निर्माण आंदोलन में हिस्सा लिया.   एक पूर्णकालीन आयोजित के रूप में कार्य करने के पश्चात उन्हें भारतीय जनता पार्टी में संगठन का प्रतिनिधि मनोनीत किया गया.  किशोरावस्था में अपने भाई के साथ एक चाय की दुकान चला चुके मोदी ने अपनी स्कूली शिक्षा वड़नगर से पूरी की.

नरेन्द्र मोदी का जीवन परिचय

माता पिता की कुल 6 संतानों में से तीसरे पुत्र नरेंद्र मोदी ने बचपन में रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने में अपने पिता का हाथ बटाया.  बडनगर के ही एक  स्कूल मास्टर के अनुसार नरन्द्र हलांकि एक औसत दर्जे का छात्र था,  लेकिन वाद-विवाद  और नाटक  प्रतियोगिताओं में उसकी  बेहद रुचि थी. इसके अलावा उसकी रुचि राजनीतिक विषयों पर  नयी-नयी  परियोजनाएं प्रारंभ करने की भी थी.

13 वर्ष में नरेन्द्र कि सगाई जसोदा बेन चमनलाल के साथ कर दी गई, और जब उनका विवाह हुआ वह मात्र 17 वर्ष के थे.  फाइनेंसियल एक्सप्रेस की एक खबर के अनुसार पति पत्नी ने कुछ वर्ष साथ रहकर बिताये परंतु कुछ समय बाद वे दोनों एक दूसरे के लिए अजनबी हो गए क्योंकि नरेंद्र मोदी ने उनसे एक ऐसी ही  इच्छा व्यक्त की थी जबकि नरेंद्र मोदी की जीवन लेखक ऐसा नहीं मानते. उनका कहना है:

“ उन दोनों की शादी जरूर हुई परंतु वह दोनों एक साथ कभी नहीं रहे शादी के कुछ वर्षों बाद नरेंद्र मोदी ने घर त्याग दिया और एक प्रकार से उनका वैवाहिक जीवन लगभग समाप्त शाही हो गया”

पिछले चार विधानसभा चुनावों में अपनी वैवाहिक स्थिति पर खामोश रहने के बाद नरेंद्र मोदी ने कहा की अविवाहित रहने की जानकारी देकर उन्होंने कोई पाप नहीं किया. नरेंद्र मोदी  के मुताबिक एक अविवाहित व्यक्ति भ्रष्टाचार के खिलाफ जोरदार तरीके से लड़ सकता है, क्योंकि उसे अपनी पत्नी परिवार व बाल-बच्चों की कोई चिंता नहीं रहती.  हालांकि नरेंद्र मोदी ने शपथ पत्र प्रस्तुत कर जसोदाबेन को अपनी पत्नी स्वीकार किया है.

Narendra Modi ki प्रारंभिक सक्रियता और राजनीति

नरेंद्र विश्वविद्यालय के छात्र थे तभी से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखा में नियमित जाने लगे थे. इस प्रकार उनका जीवन संघ एक निष्ठावान प्रचारक के रुप में प्रारंभ हुआ.  उन्होंने शुरुआती जीवन से राजनीतिक सक्रियता दिखाई और भारतीय जनता पार्टी का जनाधार मजबूत करने की प्रमुख भूमिका निभाई गुजरात में शंकर सिंह वाघेला का जनाधार मजबूत बनाने में मोदी की ही रणनिति थी.

1990 में जब केंद्र में मिली जुली सरकारों का दौर शुरू हुआ,  मोदी की मेहनत रंग लाई, जब गुजरात में 1995 के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी ने  अपने बलबूते दो तिहाई बहुमत प्राप्त किया और सरकार बनाई.  इसी प्रकार कन्याकुमारी से लेकर सुदूर उत्तर में स्थित कश्मीर तक की मुरली मनोहर जोशी की दूसरी रथयात्रा भी नरेंद्र मोदी की देखरेख में आयोजित हुई.  इसके बाद शंकर सिंह वाघेला ने पार्टी से त्यागपत्र दे दिया, जिसके परिणाम स्वरुप केशुभाई पटेल को गुजरात का मुख्यमंत्री बना दिया गया और नरेंद्र मोदी को दिल्ली बुलाकर भाजपा में संगठन की दृष्टि से केंद्रीय मंत्री का दायित्व सौंपा गया.

1995 में राष्ट्रीय मंत्री के नाते उन्हें पांच प्रमुख राज्यों में पार्टी संगठन का काम दिया गया जिसे उन्होंने बखूबी निभाया.  1998 में उन्हें पदोन्नत करके राष्ट्रीय महामंत्री का उत्तरदायित्व दिया गया. इस पद पर अक्टूबर 2001 तक काम करते रहे. भारतीय जनता पार्टी ने अक्टूबर 2001 में केशुभाई पटेल को हटाकर गुजरात के मुख्यमंत्री पद की कमान नरेंद्र मोदी को सौंप दी.

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में Narendra Modi

2001 में केशुभाई पटेल की सेहत बिगड़ने लगी थी और भाजपा चुनाव में कई सीट हार रही थी.  इसके बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुख्यमंत्री के रूप में मोदी को नए उम्मीदवार के रूप में रखते हैं.  भला कि भाजपा के नेता लालकृष्ण आडवाणी,  मोदी के सरकार चलाने के अनुभव की कमी के कारण चिंतित थे. मोदी ने पटेल के उप मुख्यमंत्री बनाने का प्रस्ताव ठुकरा दिया और आडवाणी और अटल बिहारी बाजपेई से बोले कि यदि गुजरात की जिम्मेदारी  देनी है तो पूरी दें अन्यथा ना दें.  3 अक्टूबर 2001को यह केशुभाई कि जगह  गुजरात के मुख्यमंत्री बने.

गुजरात के विकास की योजनाएं नरेंद्र मोदी

मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी ने गुजरात के विकास के लिए जो महत्वपूर्ण योजना प्रारंभ की व उन्हें क्रियान्वित कराया उनका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है-

  • पंचामृत योजना-  राज्य के एकीकृत विकास की पंचायत योजना,
  • सुजलाम सुफलाम-  राज्य में जल स्त्रोतों का उचित व समुचित उपयोग,  जिससे जल की बर्बादी को रोका जा सके,
  • कृषि महोत्सव-  उपजाऊ भूमि के लिए शोध प्रयोगशालाएं,
  • चिरंजीवी योजना-  नवजात शिशु की मृत्यु दर में कमी लाने हेतु,
  • मातृ वंदना-  जच्चा बच्चा के स्वास्थ्य की रक्षा हेतु,
  • बेटी बचाओ-  भ्रूण हत्या व लिंगानुपात पर अंकुश  हेतु,
  • ज्योति ग्राम योजना-  प्रत्येक गांव में बिजली पहुंचाने हेतु,
  • कर्म योगी अभियान-  सरकारी कर्मचारियों में अपने कर्तव्य के प्रति निष्ठा  जगाने हेतु,

उपरोक्त विकास योजनाओं के अतिरिक्त मोदी ने आदिवासी व वनवासी क्षेत्र के विकास हेतु गुजरात राज्य में  वन बंधु विकास हेतु एक अन्य  10 सूत्र निम्नवत है

1- 5 लाख परिवारों को रोजगार 2- उच्चतर शिक्षा की गुणवत्ता 3- आर्थिक विकास 4- स्वास्थ्य 5-आवास 6- स्वच्छ पेयजल 7- सिंचाई 8- विद्युतीकरण 9- प्रत्येक मौसम में सड़क मार्ग की उपलब्धता 10- शहरी विकास.

आतंकवाद पर Narendra Modi के विचार

17 जुलाई 2006 को मोदी ने एक भाषण में आतंकवाद निरोधक अभियान जैसे आतंकवादी विरोधी विधान लाने के विरुद्ध भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की आलोचना की.  मुंबई के उपनगरीय रेलवे में हुए बम विस्फोट के मद्देनजर उन्होंने केंद्र से राज्यों को सख्त कानून लागू करने के लिए सशक्त करने की मांग की-

“ आतंकवाद युद्ध से भी बेहतर है,  एक आतंकवादी के कोई नियम नहीं है.  एक आतंकवादी तय करता है कि कब,कैसे,कहां और किस को मारना है. भारत ने युद्ध की तुलना में आतंकी हमलों से अधिक लोगों को खोया है

Narendra Modi par विवाद एवं आलोचनाएं 2002 के गुजरात दंगे

27 फरवरी 2002 को  अयोध्या से गुजरात वापस आ रहे कारसेवकों को गोधरा स्टेशन पर कड़ी ट्रेन में एक हिंसक भीड़ द्वारा आग लगाकर जिन्दा जला दिया गया. इस हादसे में 59 कारसेवक मारे गए थे. रोंगटे खड़े कर देने वाली इस घटना कि प्रतिक्रिया स्वरुप समूचे गुजरात में हिन्दू  हिंदू मुस्लिम दंगे भाड़क उठे. मरने वाले 1170 लोगों में अधीकांश संख्या अल्पसंख्याओं में थी. इसके लिए New York Times ने मोदी प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया. कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टियों ने नरेन्द्र मोदी के ईस्तीफे की मांग की. मोदी ने गुजरात की  दसवीं विधानसभा भंग करने की संस्तुति करते हुए राज्यपाल को अपना त्यागपत्र कब दिया.

परिणाम स्वरुप पूरे देश में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया.  राज्य में दोबारा चुनाव हुए जिसमें भारतीय जनता पार्टी ने मोदी के नेतृत्व में विधानसभा की कुल 182 सीटों में से 127 सीटों पर जीत हासिल की.

अप्रैल 2001 में भारत के उच्चतम न्यायालय ने विशेष जांच दल भेजना कि गुजरात के दंगों में नरेंद्र मोदी की  साजिस तो नहीं.  यह विशेष जांच दल दंगों में मारे गए कांग्रेसी सांसद एहसान जाफरी की शिकायत पर भेजा गया था.  2010 में उच्चतम  न्यायालय ने S.I.T. की  रिपोर्ट पर फैसला सुनाया कि इन दंगों में नरेन्द्र मोदी के खिलाफ  कोई ठोस सबूत नहीं मिला है.

नरेन्द्र मोदी जीवनी – Biography of Narendra Modi

26 जुलाई 2012 को नई दुनिया के संपादक  शाहिद सिद्दीकी को दिए गए एक इंटरव्यू में नरेंद्र मोदी ने साफ शब्दों में कहा- “2004 में मैं पहले भी कह चुका हूं,  2002 के सांप्रदायिक दंगों के लिए मैं क्यों माफी ? यदि मेरी सरकार ने ऐसा किया है तो उसके लिए मुझे सरेआम फांसी दे देनी चाहिए.”  मुख्यमंत्री ने गुरुवार को नई दुनिया से फिर कहां- “ अगर मोदी ने अपराध किया है तो उसे फांसी पर लटका दो लेकिन यदि मुझे राजनीतिक मजबूरी के चलते अपराधी कहा जाता है तो इसका मेरे पास कोई जवाब नहीं है.”

लेकिन जब केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद से इस बात पर पूछा गया तो उन्होंने दो टूक जवाब दिया- “ पिछले 12 वर्षों में यदि एक बार गुजरात के मुख्यमंत्री के खिलाफ FIR दर्ज नहीं हुई तो आप उन्हें कैसे अपराधी ठहरा सकते हैं उन्हें फांसी देने जा रहा है?”

सितंबर 2014 की भारत यात्रा के दौरान ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री टोनी अबो्र्ट ने  नरेंद्र मोदी कहा कि नरेन्द्र मोदी को 2002 के दंगो के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर जिम्मेदार नहीं  ठहराना चाहिए  क्योंकि वह उस समय मात्र एक ‘पीठासीन अधिकारी’ थे  जो अनगिनत जांचों में पाक साफ साबित हो चुके हैं.

Narendra Modi लोकसभा चुनाव में मोदी की स्थिति

न्यूज़ एजेंसी एवं पत्रिका द्वारा तीन प्रमुख सर्वेक्षण में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद के लिए जनता की पहली पसंद बताया था.  ऐसी वोटर पोल सर्वे के अनुसार नरेंद्र मोदी को पीएम पद का प्रत्याशी घोषित करने से एनडीए के वोट प्रतिशत में 5% के इजाफे के साथ 172 से 220 सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की गई.

सितंबर 2013 में नीलसन होल्डिंग और इकोनॉमिक टाइम्स परिणाम प्रकाशित किए थे उन्हें शामिल 200 भारतीय कारपोरेट में से  73  कारपोरेट ने नरेंद्र मोदी तथा 7 ने राहुल गांधी को बेहतर प्रधानमंत्री बताया था.  नोबेल पुरस्कार विजेता ‘अर्थशास्त्री सेन’  मोदी को प्रधानमंत्री नहीं मानते थे उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा था.  उनके विचार से मुस्लिमों में उनकी स्वीकारता संदिग्ध हो सकती है जबकि जगदीश भगवती और अरविंद पनगढ़िया को मोदी का अर्थशास्त्र  बेहतर लगता है.

पार्टी की ओर से पीएम प्रत्याशी घोषित किए जाने के बाद मोदी ने पूरे भारत का भ्रमण किया.  इस दौरान 300000 किलोमीटर की यात्रा  कर पूरे देश में 437 बड़ी चुनौतियां रैलियां आदि को मिलाकर कुल 5727 कार्यक्रम किये.

परिणाम Narendra Modi history

चुनाव में जहां राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन 336 सीटें जीत का सबसे बड़ा संसदीय दल के रूप में उभरा वही अकेले भारतीय जनता पार्टी ने 282 सीटों पर विजय प्राप्त की. कांग्रेस केवल 44 सीटों पर सिमट कर रह गई और उसके गठबंधन को केवल 51 सीटों से ही संतोष करना पड़ा.

एक ऐतिहासिक तथ्य यह भी है कि नेता विपक्ष के चुनाव हेतु विपक्ष को एकजुट होना पड़ेगा क्योंकि किसी भी दल ने कुल लोकसभा सीटों के 10% का आकड़ा भी नहीं हुआ.

Narendra Modi ki रक्षा नीति

भारतीय सशस्त्र बलों को आधुनिक बनाने एवं उनका विस्तार करने के लिए मोदी के नेतृत्व वाली नई सरकार ने रक्षा पर खर्च को बढ़ा दिया है सन 2015 में रक्षा बजट 11% बढ़ा दिया गया.  सितंबर 2015 में उनकी सरकार ने समान रैंक पेंशन की बहुत लंबे समय से की जा रही मांग को स्वीकार कर लिया. मोदी सरकार ने पूर्वोत्तर भारत के नागा विद्रोहियों के साथ शांति समझौता किया जिससे 1950 के दशक से चला आ रहा नागा समस्या का समाधान निकल सके.

Narendra Modi ko सम्मान और पुरस्कार

1- अप्रैल 2016 में नरेंद्र मोदी सऊदी अरब के उच्चतम नागरिक ‘अब्दुल अजीज अल सउद’ के आदेश से सम्मानित किए गए हैं

2-  जून 2016 में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अफगानिस्तान के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार अमीर अमानुल्लाह खान अवार्ड से सम्मानित किया.

Read More:- मध्यकालीन भारत के शासक और वास्तुविद का पूरा इतिहास Medieval India

टैग्स:- Narendra Modi’s life introduction in hindi, What is the caste of Narendra Modi in hindi, About Narendra Modi in hindi , Essay on Narendra Modi in hindi, Family of Narendra Modi in hindi, Education of Narendra Modi in hindi, Damodardas Mulchand Modi in hindi, Father of Narendra Modi’s father in hindi.

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here