Sachin Tendulkar Biography : यदि आप भारतीय है तो यह सम्भव नहीँ की अपने यह नाम ना सुना हो या फिर आप इन शख्सियत को ना जानते हो, और यदि आप क्रिकेट प्रिय है तो फिर तो सचिन ईश्वर रूप है, यही कारण है कि उन्हें “क्रिकेट का देवता” कह कर सम्बोधित किया जाता है। सचिन यह मात्र एक नाम नहीं एक इंसान नहीँ बल्कि प्रेरणा का अतुल्नीय स्त्रोत है। Sachin Tendulkar ने अपने बल्ले की ताकत को अस्त्र के तर्ज पर इस्तेमाल करते हुए  असामान्य सफलता का परिचय देते हुए अपने अटूट इरादों के दमपर टेस्ट और वनडे में अनेक सजीव रिकार्ड्स बनाये।

Sachin Tendulkar – cricket का स्वाभिमान

व्यक्तिगत जीवन-

  • पूरा नाम  – सचिन रमेश तेंदुलकर
  • जन्म       – 24  एप्रिल, 1973
  • जन्मस्थान – मुंबई
  • पिता का नाम   – रमेश तेंदुलकर
  • माता का नाम    – रजनी तेंदुलकर
  • विवाह     – अंजली के साथ
  • उपनाम-  लिटिल मास्टर,तेंदेल्या,क्रिकेट के भगवान, मास्टर ब्लास्टर, द मास्टर,द लिटल च्याम्पियन
  • कद-    5 फीट 5 इंच
  • बल्लेबाज़ी की शैली-   दायें हाथ

मास्टर ब्लास्टर Sachin Tendulkar Biography के बारे में पूरी जानकारी In हिंदीसचिन एक सामान्य परिवार से वास्ता है, उन्होंने  अपनी शिक्षा मुंबई के शारदाश्रम विश्वविद्यालय में पूर्ण की। मराठी ब्राह्मण परिवार में जन्मे सचिन का नाम उनके पिता रमेश तेंदुलकर ने अपने चहेते संगीतकार सचिन देव बर्मन के नाम पर रखा था।सचिन के जीवन के पहले मार्गदर्शक है उनके भाई अजित तेंदुलकर क्योंकि इन्होंने ही सचिन के अंदर उपस्थित क्रिकेटर को सबसे पहले तलाशा। सचिन के एक भाई नितिन तेंदुलकर और एक बहन सविताई तेंदुलकर भी हैं।

Sachin Tendulkar का विवाह अंजलि तेंदुलकर से हुआ। सचिन के दो बच्चे हैं – सारा और अर्जुन है।

Sachin Tendulkar की Cricket career

क्रिकेट  के ‘द्रोणाचार्य’ रमाकांत आचरेकर इन्होंने Sachin Tendulkar को अनमोल और सटीक शिक्षा दी। हँरिस शिल्ड मुकाबले में विनोद कांबली के साथ निजी 326 रन करते हुये 664 रनों की विक्रमी भागीदारी करने का साहसी प्रदर्शन दिखाया  और 15 साल की उम्र में वो मुंबई टीम में शामिल हुये। 1990 में इंग्लैड के दौरे में अपने टेस्ट मैच में की पहला शतक (नाबाद 119) पूरा किया और उसके बाद ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अफ्रीका  के दौरे में शतकों का सफ़रनामा आगे बढ़ता  रहा।

Sachin Tendulkar ने इतिहास रचते हुए शारजा में कोका कोला वर्ल्ड कप Oneday match के सेमी फायनल और फायनल में के सचिन के अखण्ड प्रदर्शन के परिणाम स्वरूप  सचिन की प्रतिभा को देख सभी मंत्रमुग्ध हो गए।जिसके बाद उनके इस प्रदर्शन को ‘डेझर्ट स्टॉर्म’ के नाम से प्रख्यात मुकाम प्राप्त हुआ। फिर, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ फायनल मैच में सचिन ने फिर एक बार 131 बॉल में 134 रन बना कर भारत को जीत का गौरव प्रदान किया।

इस मॅच के बाद ‘Cricket international’ इस पत्रिका ने भी उसका ‘दूसरा ब्रँडमन के से रूप से प्रकाशन कार्य  को सबके सामने रखा। और ब्रँडमन ने भी इस नाम के प्रति समस्त सहमति व्यक्त की 2005-06 के समयकाल में कंधो के दर्द के वजह से सचिन कष्ट में थे। फिर भी अपने खेल मे उनकी निष्ठा बरकरार रही और उन्होंने अपने प्रदर्शन में महान स्तर बनाए  रखा।

क्रिकेट जगत की यात्रा  में उनके सर्वाधिक 39 शतक 4 दोहरे शतक के संलग्न 248 नाबाद ययह सर्वोच्च रन संख्या है। तो one day मॅच के प्रदर्शन में उनके सर्वाधिक मतलब 42 शतक लगाई और कुल 89 अर्ध शतक की मौजूदगी दर्ज है।
Sachin Tendulkar के इस अद्वित्य खेल की क्षमताओं के परिणाम स्वरूप उनको कप्तान बनाया गया लेकिन गलत परिस्थितियों के चलते उन्हें कप्तान के तौर पर सफलता हासिल नही। हुई। लेकिन खेल के साथ साथ अपने धनवान और आकर्षित व्यक्तित्व से सचिन ने पूरी दुनिया जे लोगो के दिलो पर राज किया। सचिन का सहज स्वभाव और सरल मुस्कान ने सदा सबके मन को मोहित किइस

आज सर्वत्र विश्व में क्रिकेट मतलब सचिन तेंदुलकर ये ही नाम रहता है।

सचिन तेंदुलकर के सर्वश्रेष्ठ रिकार्ड्स- Sachin Tendulkar’s Best Records

सचिन की खेल यात्रा का पहला सबसे बड़ा रिकॉर्ड मीरपुर में बांग्लादेश के खिलाफ १०० वाँ शतक बनाने का दर्ज हुआ। साथ ही साथ एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास में दोहरा शतक जड़ने वाले सचिन पहले खिलाड़ी बने।और एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे ज्यादा (१८००० से अधिक) रन बाबते हुए कामयाबी के नए और स्मरण तुल्य आयाम स्थापित किये। एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे

ज्यादा ४९ शतक जड़े इतना ही नहीं बल्कि एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय विश्व कप मुक़ाबलों में सबसे ज्यादा रन बनाने का गौरव अर्जित किया।

Sachin Tendulkar ने टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा (51) शतक बनाएँ जो अपने आप मे एक इतिहास है।
ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ५ नवम्बर २००९ को १७५ रन की पारी मे एक दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में १७ हजार रन पूरे करने वाले पहले सचिन पहले बल्लेबाज है।सचिन तेंदुलकर का टेस्ट क्रिकेट में सर्वाधिक रनों का कीर्तिमान क्रिकेट की दुनिया मे सर्वश्रेष्ठ है।

टेस्ट क्रिकेट १३००० रन बनने वाले विश्व के पहले बल्लेबाज Sachin Tendulkar है। एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे ज्यादा मैन ऑफ द सीरीज अपने नाम की।एकदिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय मुक़ाबले में सबसे ज्यादा मैन ऑफ द मैच बनें। तो यह समस्त रिकार्ड्स के मेल से सिद्ध है की सचिन तेंदुलकर क्रिकेट जगत को मिली एक अनमोल सौगात है।

सचिन तेंदुलकर क्षमताओं के सागर- Sachin Tendulkar capabilities of Sagar-

सचिन क्रिकेट जगत के सर्वाधिक प्रायोजित खिलाड़ी हैं और विश्व भर में उनके अनेक प्रशंसक का मेला हैं। उनके प्रशंसक उन्हें प्रेम स्वरूप अनेक नामों से बुलाते है हैं जिनमें सबसे प्रचलित लिटिल मास्टर व मास्टर ब्लास्टर है। क्रिकेट के अलावा वह अपने ही नाम के एक सफल रेस्टोरेंट के मालिक भी हैं।

वर्तमान में वह राज्य सभा के सदस्य हैं, सन् २०१२ में उन्हें राज्य सभा के सदस्य के रूप में नामित किया गया था।

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले Sachin Tendulkar पर फिल्म ‘सचिन : ए बिलियन ड्रीम्स’ बनी। इस  फ़िल्म में एक ऐसे इंसान को उसी की कहानी सुनाते हुए देखेंगे जो एक शरारती बच्चे से एक हीरो बनकर सबके सामने आता है। ख़ुद सचिन तेंदुलकर भी ये कहते है कि क्रिकेट खेलने से अधिक चुनौती पूर्ण अभिनय करना है क्योंकि अभिनय में हर बार हमें एक नए किरदार से परिचित होना पड़ता है और उसका परिचय दर्शकों से जुड़ा हुआ होता है। सचिन – ए बिलियन ड्रीम्स’ का निर्माण रवि भगचंदका ने किया है और इसका निर्देशन जेम्स अर्सकिन ने अत्यंत ही सराहनीय रूप में किया है।

इसके अलावा सचिन ने तीन किताबें भी लिखी जो- मेरी आत्म कथा, चेज़ यूअर ड्रीम्स और प्लेयिंग इट इन माय वे है।

Sachin Tendulkar retirement from Test cricket सचिन तेंदुलकर के टेस्ट क्रिकेट से सन्यास-

२३ दिसम्बर २०१२ को सचिन ने वन-डे क्रिकेट से संन्यास लेने घोषणा कर दी।लेकिन उससे भी बड़ा दिन तब आया जब उन्होंने टेस्ट क्रिकेट से भी संन्यास लेने की घोषणा की। इस अवसर पर उन्होंने कहा – “देश का प्रतिनिधित्व करना और पूरी दुनिया में खेलना मेरे लिये एक बड़ा सम्मान था। मुझे मेरी  जमीन पर २०० वाँ टेस्ट खेलने का इन्तजार है। जिसके बाद मैं संन्यास ले लूँगा।”उनकी इच्छा के अनुसार उनका अन्तिम टेस्ट मैच वेस्टइण्डीज़ के खिलाफ मुम्बई के वानखेड़े स्टेडियम में ही खेला गया।

Read more:- क्रिकेट के सम्राट Kapil Dev की Biography और Life History In Hindi

और जैसा उन्होंने कहा था वैसा ही किया भी। १६ नवम्बर २०१३ को मुम्बई के अपने अन्तिम टेस्ट मैच में उन्होंने ७४ रनों की पारी खेली। मैच का परिणाम भारत के पक्ष में आते ही उन्होंने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा! कह दिया। इस अवसर पर यूँलगा मानो सम्पूर्ण विश्व उन्हें सलाम कर रहा हो अनेक एलपीजी भाव-विभोर हुए और सभी की आँखों मे आँसू मौजूद थे

सचिन के सम्मान- Sachin Tendulkar Honor-

  1. 1994 – अर्जुन पुरस्कार, खेल में उनके उत्कृष्ट उपलब्धि के सम्मान में भारत सरकार द्वारा।
  2. 1997-98 – राजीव गांधी खेल रत्न, खेल में उपलब्धि के लिए दिए गए भारत के सर्वोच्च सम्मान।
  3. 1999 – पद्मश्री, भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार।
  4. 2001 – महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार, महाराष्ट्र राज्य के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार।
  5. 2008 – पद्म विभूषण, भारत का दूसरा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार।
  6. 2014 – भारत रत्न, भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार।

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को हमारा सलाम जो एक मिसाल है।

सचिन के प्रशंसकों के कथन-

Sachin Tendulkar के अनेक प्रशंसको ने अनेक तरह से हमेशा ही उनकी प्रशंसा की है। इन प्रशंसकों द्वारा कहे गए कुछ कथन तो अमर है जो निम्नलिखित है- मैथ्यू हेडन ने ऑस्ट्रेलिया में हो रहे एक मैच के दौरान सचिन के लिए अपने शब्दों को समर्पित करते हुए कहा कि- मैंने भगवान को देखा है। वहीं एक ओर प्रशंसक ने कहा की-क्रिकेट मेरा धर्म है और सचिन मेरा भगवान है”।  तेंदुलकर एक दूरी से, दुनिया में सबसे ज्यादा पूजा करने वाले क्रिकेटर हैं।” साथ ही साथ सचिन के प्रशंसकों में सुधीर चौधरी भी विख्यात है।

नमस्कार,आप सभी के सहयोग से हमारा यह blog, हिन्दी भाषा Me History Se सम्बंधित जानकारी उपलब्ध करवाने वाला एक popular website बनते जा रहा है. इसी तरह अपना सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे. :)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here